ताज़ा खबर
 

झारखंड : टेरर फंडिंग मामले में निजी कंपनी पर छापा

एनआईए के अनुसार, अब तक हुई जांच में खुलासा हुआ है कि उरांव नक्सलियों से मिलते थे और उन्हें आश्रय तथा वित्तीय सहायता देते थे। वे उनके लिए रुपये इकट्ठे करते थे आतंकवाद से संबंधित रुपये उरांव के रिश्तेदारों के नाम आते थे।
Author March 26, 2018 00:27 am
एनआईए (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने एक निजी निवेश कंपनी के रांची स्थित कार्यालयों पर छापा मारा। कंपनी पर नक्सलियों के लिए धन इकट्ठा करने का आरोप है। आतंकवाद निरोधक एजेंसी ने ‘विकास म्यूचुअल बेनीफिट’ के रांची में संदीप टावर और बेरो स्थित कार्यालयों में शुक्रवार और शनिवार को छापे मारकर जांच की। एजेंसी ने आरोप लगाया है कि कंपनी में नक्सलियों ने विभिन्न योजनाओं के तहत निवेश किया है। यह छापेमारी एनआईए द्वारा जनवरी में दर्ज एक मामले के संबंध में हुई।

एनआईए के एक अधिकारी ने कहा, “मामले के संबंध में एनआईए ने 21 मार्च को मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के वरिष्ठ सदस्य संतोष उरांव और रोशन उरांव पर उनके कार्यालयों से ‘विकास म्यूचुअल लाभ निधि’ की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत निवेश करने के मामले में गिरफ्तार किया था।” छापा मारने वाले दल को दो लैपटॉप, दो सीपीयू, एक पेन ड्राइव के साथ बड़ी संख्या में उरांव बंधुओं द्वारा किए गए वित्तीय लेन-देन से संबंधित कई दस्तावेज बरामद हुए। यह सब फिलहाल एनआईए के कब्जे में हैं।

एनआईए के अनुसार, अब तक हुई जांच में खुलासा हुआ है कि उरांव नक्सलियों से मिलते थे और उन्हें आश्रय तथा वित्तीय सहायता देते थे। वे उनके लिए रुपये इकट्ठे करते थे आतंकवाद से संबंधित रुपये उरांव के रिश्तेदारों के नाम आते थे। इन रुपयों का निवेश विमुद्रीकरण से पहले तथा बाद में विभिन्न योजनाओं में किया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App