ताज़ा खबर
 

किसानों के बीच कांग्रेस की पैठ बनाने में जुटे राहुल

कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी उत्तर प्रदेश में किसानों तक कांग्रेस को पहुंचाने का संकल्प लेकर निकलने वाले हैं।

Author September 2, 2016 09:29 am

कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी उत्तर प्रदेश में किसानों तक कांग्रेस को पहुंचाने का संकल्प लेकर निकलने वाले हैं। वे देवरिया से 6 सितंबर को किसान यात्रा की शुरुआत करेंगे। महात्मा गांधी के जन्म दिवस पर दो अक्तूबर को देश की राजधानी में किसान यात्रा का समापन होगा। इस 28 दिन तक की उत्तर प्रदेश यात्रा में राहुल ढाई हजार किलोमीटर का फासला तय करंगे।
बीते दो सालों से उत्तर प्रदेश का किसान दैवीय आपदा से बेदम है। वर्ष 2014 में ओलावृष्टि के बाद किसानों पर आई दैवीय आपदा की शक्ल में मुसीबत अब तक थमने का नाम नहीं ले रही है। बीते वर्ष और इस वर्ष उत्तर प्रदेश में भयावह अकाल का सामना करने के बाद अब बाढ़ से बेदम हो चुके किसानों तक पहुंच कर राहुल गांधी उनके दिलों में जगह बनाने की कोशिश में हैं। कांग्रेस के विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि देवरिया से छह सितंबर को राहुल गांधी किसान यात्रा पर निकलेंगे। इस यात्रा की खास बात राहुल गांधी के साथ चलने वाला कार्यकर्ताओं का हुजूम होगा जो घर-घर जाकर किसानों का दुख दर्द जानेगा और उनकी समस्या का हल निकालने की दिशा में अग्रसर होगा।

सूत्रों का कहना है कि इस अभियान में खुद राहुल गांधी भी कई स्थानों पर घर-घर जाकर किसानों ासे उनका हाल-चाल जानेंगे। दरअसल राहुल उत्तर प्रदेश में कुछ ही महीनों बाद होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले किसानों तक पहुंच कर एक तीर से दो निशाने साधने की कोशिश में हैं। किसान यात्रा की मार्फत वे केंद्र की नरेंद्र मोदी की उस सरकार को कटघरे में लाने की कोशिश करेंगे जिसके उत्तर प्रदेश में 71 सांसद हैं। जबकि भाजपा के सहयोगी अपना दल के दो सांसदों को मिलाकर नरेंद्र मोदी को उत्तर प्रदेश से ताकत देने वाले सांसदों की संख्या 73 है। सूत्र बताते हैं कि राहुल गांधी अपनी किसान यात्रा के दौरान उत्तर प्रदेश के 403 विधानसभा क्षेत्रों में से 225 तक पहुंचेंगे। जबकि 55 लोकसभा क्षेत्र तक भी इसी यात्रा के जरिये पहुंचने की राहुल की रणनीति है। देवरिया से दिल्ली के सफर के दरम्यान राहुल गांधी 42 जिलों में पहुंचेंगे जहां कई स्थानों पर उनके रोड शो की बात भी कही जा रही है।

उत्तर प्रदेश की ढाई हजार किलोमीटर की यात्रा के दौरान राहुल गांधी और उनके ढाई लाख कार्यकर्ताओं को प्रदेश के दो करोड़ किसानों के घरों तक पहुंचने का लक्ष्य दिया गया है। यह पहला मौका नहीं है जब राहुल गांधी ने किसानों के घरों का रुख किया हो। बीते एक दशक में उन्होंने किसानों के घरों तक पहुंचने का कोई भी अवसर हाथ से जाने नहीं दिया है। कुछ वर्ष पूर्व राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश की प्रत्येक ग्राम पंचायत तक यूथ यूनिट को सक्रिय करने के निर्देश दिए थे। इस यूनिट का काम आम लोगों से जुड़ी समस्याओं को पहचानना था। समस्याओं की जानकारी होने के बाद उसका मुकम्मल समाधान होने तक युवा कार्यकर्ताओं को जनता के बीच डंटे रहने को कहा गया था, लेकिन राहुल गांधी के दिल्ली वापस जाने के बाद उत्तर प्रदेश के सुस्त कांग्रेसी फिर ठंडे कमरों की तरफ लौट गए थे।

ऐसे में अब देखना दिलचस्प होगा कि क्या किसान यात्रा में जिन ढाई लाख कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को प्रदेश के दो करोड़ किसानों के घरों तक पहुंचने का लक्ष्य दिया गया है क्या वे इसे पूरा कर पाएंगे? या राहुल गांधी के इस अभियान की हश्र भी उत्तर प्रदेश में पिछले कई सालों से कांग्रेस की तरफ से जनता से जुड़ने के लिए चलाए जा रहे अभियानों सरीखा ही होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App