ताज़ा खबर
 

कर्नाटक में बीफ और हिंदू आतंकवाद पर बहस से दूर रहेगी कांग्रेस, राहुल की पार्टी नेताओं को नसीहत-बीजेपी के ट्रैप में न फंसे

कर्नाटक में बीफ का मुद्दा गरमाया है, मगर कांग्रेस इस बहस में पड़कर नुकसान नहीं उठाना चाहती। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कर्नाटक के नेताओँ को नसीहत जारी कर दी है।

Author नई दिल्ली | January 23, 2018 9:28 PM
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (ANI Twitter)

कर्नाटक में विधानसभा चुनाव को लेकर खासी सरगर्मी है। बीफ और हिंदू आतंकवाद के मुद्दे पर भाजपा और कांग्रेस के नेता एक दूसरे से दो-दो हाथ करने में जुटे हैं। कांग्रेस ने बीफ जनता पार्टी नाम से एक वीडियो भी जारी कर सियासत गरमा दी। मगर अब खबर आ रही है कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी नेताओं को बीफ और हिंदू आतंकवाद जैसे शब्दों और मुद्दों से दूरी बनाने की नसीहत दी है। ताकि इन मुद्दों के फेर में पड़कर पार्टी को किसी तरह का नुकसान न उठाना पड़े।

राहुल गांधी को आशंका है कि इन दो मुद्दों पर बहस से कांग्रेस भाजपा के बुने जाल में फंस सकती है। चुनाव में असली मुद्दे गौड़ हो जाएंगे। लिहाजा उन्होंने कांग्रेस नेताओं को ऐसे मुद्दे से दूर रहने को कहा है। सूत्र बताते हैं कि हाल में कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. जी परमेश्वर, वर्किग प्रेसीडेंट दिनेश, ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार के साथ नई दिल्ली स्थित अपने आवास पर राहुल गांधी ने बैठक की। न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक बैठक में शामिल एक नेता ने बताया कि मीटिंग के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि भाजपा चुनाव के असली मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाना चाहती है। इस नाते बीफ आदि मुद्दे उछाल रही है। लिहाजा हमें इस विवाद में नहीं पड़ना है। बैठक में राहुल गांधी ने सिद्धारमैया से बीफ और हिंदुत्व टेरर को लेकर बोलने से बचने की नसीहत दी।

बताया जा रहा है कि राहुल गांधी को गुजरात चुनाव के बाद काफी सीख मिली है। उनका मानना है कि चुनाव के दौरान भाजपा अपनी पिच पर विरोधी दलों को खेलने के लिए ऐसे मुद्दों के जरिए आमंत्रित करती है। जो भाजपा के दांव में फँस जाता है तो फिर उसका नुकसान हो उठता है। बता दें कि सिद्धारमैया ने हाल में भाजपा और संघ को आतंकवादी तत्व कहा था। उनके बयान के बाद हंगामा खड़ा हो गया था। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी फरवरी में कर्नाटक का दो चरणों में दौरा करेंगे। पहला चरण 10 और 12 फरवरी के मध्य तो दूसरा 21 और 23 फरवरी के बीच होगा। है और दूसरा चरण 21 और 23 के बीच है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App