ताज़ा खबर
 

राहुल गांधी को पंजाब में नशे के खिलाफ विरोध करने का हक नहीं: भगवंत मान

आप के सांसद भगवंत मान ने कहा, ‘2012 के विधानसभा चुनावों के दौरान पंजाब में नशे की समस्या की गंभीरता के बारे में कुरैशी के सूचित करने के बावजूद मनमोहन सिंह ने चुप्पी साधे रखी।'

Author चंडीगढ़ | June 12, 2016 8:28 PM
संगरूर से आप के सांसद भगवंत मान। (पीटीआई फाइल फोटो)

आप नेता भगवंत मान ने रविवार (12 जून) को कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पंजाब में नशे के खिलाफ विरोध करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है क्योंकि वह और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समस्या का समाधान करने में पहले विफल रहे थे। उन्होंने राहुल पर दागी नेताओं को बढ़ावा देने के आरोप लगाए। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि राज्य में नशे की समस्या को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री ने चुप्पी साधे रखी जबकि पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस. वाई. कुरैशी ने मुद्दे की तरफ उनका ध्यान खींचा था।

संगरूर से आप के सांसद भगवंत मान ने कहा, ‘2012 के विधानसभा चुनावों के दौरान पंजाब में नशे की समस्या की गंभीरता के बारे में कुरैशी के सूचित करने के बावजूद मनमोहन सिंह ने चुप्पी साधे रखी जबकि अमरिंदर ने सीबीआई जांच का विरोध कर शिअद के मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया का पक्ष लिया।’

कुरैशी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री को दो पन्ने का पत्र लिखकर ‘2012 के पंजाब विधानसभा चुनावों में जब्त नशीले पदार्थों को लेकर दुख जताया था।’ कड़ी कार्रवाई करने के बजाए मनमोहन सिंह ने चुप्पी साधे रखी और पत्र सरकारी फाइलों में दफन हो गया। आप के सांसद ने कहा, ‘राहुल को कांग्रेस के जालंधर सांसद संतोख सिंह चौधरी के व्यवहार के बारे में भी बताना चाहिए जिन्हें प्रवर्तन निदेशालय ने सम्मन किया था और शिअद नेता चुन्नी लाल गाबा से संबंधों के बारे में पूछना चाहिए जो नशे का तस्कर है।’

उन्होंने कहा, ‘गाबा गोराया का व्यवसायी है जो नशे के व्यवसाय में ईडी की जांच का सामना कर रहा है जो अंतरराष्ट्रीय नशा तस्कर जगदीश भोला से जुड़ा हुआ है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App