ताज़ा खबर
 

पंजाब चुनावों में डेरा सच्चा सौदा से समर्थन मांगने पर अकाली के 30, कांग्रेस के 15 और आप के 3 नेता दोषी करार

जांच कमेटी का कहना है कि दोषी ठहराए गए सभी नेताओं को अपना पक्ष रखने के लिए नोटिस भेजा गया था लेकिन सिर्फ अकाली दल के नेताओं द्वारा ही अपना पक्ष सामने रखा गया।

ram rahim singh, gurmeet ram rahim, Hindu god Vishnu, posing as Vishnu, kiku sharda, Vishnu avatar, Lord Vishnu, विष्‍णु अवतार, राम रहीम, गुरमीत राम रहीम, धार्मिक भावनाएं, डेरा सच्‍चा सौदा, latest hindi news, hindi newsडेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह (File Photo)

पंजाब में 4 फरवरी को हुए विधान सभा चुनावों के बाद एसजीपीसी द्वारा डेरा सच्चा सौदा से चुनावों में समर्थन मांगने के मामले में गठित की गई जांच कमेठी ने अपनी अंतिम रिपोर्ट तैयार कर ली है। जांच कमेठी द्वारा तैयारी की गई इस रिपोर्ट में कांग्रेस, अकाली दल और आम आदमी पार्टी के 48 नेताओं को दोषी ठहराया गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इसमें अकाली दल के 30, कांग्रेस के 15 और आप के 3 नेता को दोषी करार दिया गया है। एसजीपीसी को श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह को अपनी यह रिपोर्ट सौंपेगी।

आपको बता दें कि इसमें पहली श्रेणी में जिन नेताओं के नाम हैं उन्हें कड़ी सजा दी जाएगी। ये वो नेता हैं जिन्होंने चुनाव के समय डेरा सच्चा सौदा या नाम चर्चा घरों में जाकर सिर झुका अपने हक के लिए वोट के लिए समर्थन मांगा था। वहीं दूसरी श्रेणी में वे लोग हैं जिन्होंने डेरा प्रेमियों से वोटिंग के लिए समर्थन मांगा था। इन लोगों को पहली श्रेणी में दी जाने वाली सजा के मुकाबले कम सजा दी जाएगी। इस रिपोर्ट के जरिए इन नेताओं को 11 मार्च से पहले सजा देने की मांग की जाएगी। आपको बता दें कि चुनाव के बाद एसजीपीसी को डेरे से समर्थन मांगने वाले सिख नेताओं के नाम सामने लाने के आदेश दिए गए थे।

जांच कमेटी का कहना है कि दोषी ठहराए गए सभी नेताओं को अपना पक्ष रखने के लिए नोटिस भेजा गया था लेकिन सिर्फ अकाली दल के नेताओं द्वारा ही अपना पक्ष सामने रखा गया। अकाली दल ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि हमने तो सभी से वोटिंग की अपील की थी जिनमें डेरा सच्चा सौदा प्रेमी भी शामिल हैं।

गौरतलब है कि मई 2007 में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह द्वारा गुरु गोबिंद सिंह की ही तरह बाणा धारण किया गया था, जिसके बाद श्री अकाल तख्त साहिब ने हुक्नामा बनाया गया जिसमें कहा गया था कि सिंख संगत को डेरे का सामाजिक बहिष्कार करना होगा। इस वजह से सिख नेताओं का डेरे में जाकर डेरा प्रेमियों से वोटिंग के लिए समर्थन मांगने पर कार्रवाई की जा रही है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पंजाब में अनोखी शादी, सिर पर सेहरा बांध और घोड़ी चढ़कर पहुंची दुल्हन तो दूल्हे ने मेहंदी रचाई फिर शादी कर विदा हुआ दुल्हन के घर
2 अब पंजाब में मार्च निकालेगी एबीवीपी, दिल्‍ली से बाहर जाएगी ‘डीयू को बचाने’ और ‘देशभक्ति जगाने’ की लड़ाई
3 ब्‍वॉयफ्रेंड्स होने के शक पर पेरेंट्स ने ले ली बेटियों की जान, नशे की दवाई खिलाकर नहर में फेंक दिया
IPL 2020 LIVE
X