ताज़ा खबर
 

‘ISI के फेसबुक फ्रेंड्स’ में बीजेपी नेता से लेकर आर्मी अफसर, महिला के नाम पर चल रहा था अकाउंट

गुरुवार (29 मार्च, 2018) को स्टेट स्पेशल ऑपरेशन सेल ऑफ पंजाब पुलिस और मिलिट्री इंटेलीजेंस के संयुक्त अभियान में जासूसी के आरोप में मोगा जिले के रवि कुमार को गिरफ्तार किया गया।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

पाकिस्तानी महिला की फेसबुक फ्रेंड लिस्ट में भारत के आर्मी अफसर से लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) के वरिष्ठ नेता का नाम सामने आया है। महिला की फ्रेंड लिस्ट में जिन लोगों के नाम हैं, उनमें सेना में कर्नल रहते रिटायर हुए बिहार के भाजपा नेता, लुधियाना के रिटायर्ड कर्नल, जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में सेना के उम्मीदवार हैं। आरोप है कि महिला के नाम वाला फेसबुक अकाउंट पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई द्वारा सेना के पूर्व अफसरों की जासूसी के लिए संचालित किया जा रहा है। हालांकि इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में तीनों ने अलग-अलग कहा कि वो उस महिला को नहीं जानते जो फेसबुक पर उनकी फ्रेंड लिस्ट में है। उनका कहना है कि फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट आती रहती हैं जिन्हें आमतौर पर एक्सेप्ट कर लेते हैं।

दरअसल बीते गुरुवार (29 मार्च, 2018) को स्टेट स्पेशल ऑपरेशन सेल ऑफ पंजाब पुलिस और मिलिट्री इंटेलीजेंस के संयुक्त अभियान में जासूसी के आरोप में मोगा जिले के रवि कुमार को गिरफ्तार किया गया। जांच में यह भी सामने आया कि महिला के नाम पर जो फेसबुक अकाउंट है उसका संचालन कथित तौर खुफिया एजेंसी आईएसआई द्वारा किया जा रहा है। रवि कुमार की गिरफ्तारी के बाद महिला के फेसबुक अकाउंट के बारे में यह जानकारी मिली है। पंजाब के सीनियर पुलिस अधिकारी ने बताया कि इसकी संभावना नहीं है कि एक महिला की फ्रेंड लिस्ट में सेना के सेवारत और सेवानिवृत्त रक्षाकर्मी हों।

बाद में इंडियन एक्सप्रेस ने महिला की फ्रेंड लिस्ट में मौजूद लुधियाना के रिटायर्ड कर्नल से संपर्क किया तो उन्होंने लिस्ट से अपना नाम हटा (अनफ्रेंड कर दिया) लिया। उन्होंने कहा, ‘मुझे कुछ मालूम नहीं है। फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट आती रहती हैं। फेसबुक पर मेरे करीब चार हजार फ्रेंड हैं।’ कर्नल साल 2001 में सेना से रिटायर्ड हुए थे। वहीं बिहार में भाजपा नेता ने कहा कि शायद उन्हें महिला की फ्रेंड रिक्वेस्ट आई होगी, जिसे उन्होंने एक्सेप्ट कर लिया। फेसबुक सैकड़ों फर्जी अकाउंट हैं जिनकी जानकारी सभी को है।

उन्होंने आगे कहा, ‘फेसबुक पर रोज लोगों से बातचीत होती है। मैं लोगों से पूछता हूं कि वो कौन हैं। मैं जानकारी लेता हूं, लेकिन उस महिला के नाम वाले पेज से मेरी कोई बातचीत नहीं हुई है और ना ही मैं उसे जानता हूं।’ इसके अलावा कुपवाड़ा के 21 वर्षीय युवक को भी महिला की फ्रेंड लिस्ट में देखा गया है। युवक ने एफबी पर सेना की वर्दी पहने तस्वीर लगाई है। जब मामले में उनसे पूछा गया तो उन्होंने बताया कि वह आमतौर पर सभी की फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर लेते हैं।

युवक ने आगे कहा, बहुत शौक था आर्मी में भर्ती होने का, मगर चयन नहीं हुआ। मैं सेना की वर्दी पसंद करता हूं। इसलिए मैंने फेसबुक पर सेना की वर्दी वाली तस्वीर लगाई है। मैं पूर्व में एनसीसी कैडेट रह चुका हूं।’ आईएसआई द्वारा महिला के अकाउंट संचालित किए जाने के आरोप पर युवक ने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App