scorecardresearch

सुनील जाखड़ के बयान पर दिग्विजय सिंह ने कसा तंज, बोले- इतना समय लगा उनको समझने में

सुनील जाखड़ ने कांग्रेस को लेकर कहा था कि पार्टी नेतृत्व चुगलखोरों और चूपलूसों से घिरा हुआ है। उनके इस बयान पर दिग्विजय सिंह ने पलटवार करते हुए कहा कि उनको ये समझने में इतना समय लग गया।

Digvijay Singh|Sunial Jakhar|Congress
कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह (Photo Credit- The Indian Express)

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए सुनील जाखड़ पर पलटवार किया है। उन्होंने सुनील जाखड़ की पार्टी को लेकर “चुगलखोरों ” वाली टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उनको इतना समय लग गया समझने में।

दरअसल, सुनील जाखड़ ने पार्टी छोड़ने के बाद कहा था कि कांग्रेस का नेतृत्व चापलूसों और चुगलखोरों से घिरा हुआ है। उन्होंने कहा कि आज वहां (कांग्रेस) जिन लोगों की चलती है वे चापलूस और चुगलखोर लोग हैं। इसी महारथ की वजह से 30 साल से राज्यसभा में बैठे हैं। पंजाब में पैर दिए बिना वहां की राजनीति यहां से चला रहे हैं।

एएनआई से बात करते हुए दिग्विजय सिंह ने ओबीसी मुद्दे पर भी अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि ओबीसी को पूरा समर्थन है। बता दें कि हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश में पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव में ओबीसी आरक्षण को अनुमति दे दी है।

गौरतलब है कि सुनील जाखड़ ने 19 मई को भारतीय जनता पार्टी का हाथ थाम लिया था। उन्होंने राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस के चिंतन शिविर के दौरान फेसबुक लाइव आकर कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। इस्तीफे के तीन दिन बाद जाखड़ ने दिल्ली में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी में भाजपा का दामन थामा।

बीजेपी में शामिल होने के बाद उन्होंने कहा, “मैं सभी का आभारी हूं कि बीजेपी में शामिल हुआ। यह आसान नहीं है। कांग्रेस से मेरा नाता 50 साल पुराना है। मेरी तीन पीढ़ियां कांग्रेस में रहीं। निजी स्वार्थ के लिए राजनीति को तोड़ने का काम नहीं किया। पंजाब की धरती साधु पीर की धरती है।”

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी जमकर तारीफ की थी। उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री मोदी करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के लिए पंजाब आए थे। तब उनके साथ लंगर चखा और बातचीत का मौका मिला। अब उन्होंने लाल किले पर हिंद की चादर श्री गुरू तेग बहादुर जी का 400वां प्रकाश पर्व मनाया।

पढें पंजाब (Punjab News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट