ताज़ा खबर
 

सिद्धू को मिली जेड प्लस सुरक्षा, अमरिंदर सरकार ने दिया बुलेटप्रूफ लैंड क्रूजर

सिद्धू के एक नजदीकी सूत्र ने बताया कि राज्य सरकार ने सिद्धू को एक बुलेटप्रुफ लैंडक्रूजर भी मुहैया कराई है।

कांग्रेस नेता और पंजाब सरकार में कैबिनेट मिनिस्टर नवजोत सिंह सिद्धू। (रॉयटर्स फोटो)

पंजाब सरकार के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की सुरक्षा बढ़ाई गई है। न्यूज एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों ने हवाले से बुधवार को बताया कि ऐसा उन्हें मिली धमकियों के मद्देनजर किया गया है। सिद्धू के एक नजदीकी सूत्र ने बताया कि राज्य सरकार ने सिद्धू को एक बुलेटप्रुफ लैंडक्रूजर भी मुहैया कराई है। बता दें कि नवंबर 2018 में कांग्रेस ने सिद्धू की जान पर ‘खतरे की आशंका बढ़ने’ का उल्लेख करते हुए उनके लिए सीआईएसएफ की सुरक्षा मांगी थी। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस संबंध में गृह मंत्री राजनाथ सिंह को एक चिट्ठी लिखी थी क्योंकि क्योंकि सिद्धू पार्टी के लिए पंजाब के बाहर चुनाव प्रचार करने वाले थे।

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, सिद्धू की सुरक्षा अपग्रेड करके जेड प्लस में तब्दील कर दी गई है। सूत्रों के मुताबिक, वर्तमान में सिद्धू की सुरक्षा में 12 सुरक्षाकर्मी तैनात हैं, जिसे बढ़ाकर 25 कर दिया गया है। दरअसल, दक्षिणपंथी संगठन की ओर से सिद्धू को दी गई धमकी और बढ़ते खतरे के मद्देनजर कांग्रेस सरकार ने उनकी सुरक्षा बढ़ाने की मांग की थी। पंजाब के अडिशनल चीफ सेक्रेटरी (होम ऐंड जस्टिस) निर्मलजीत सिंह कलसी ने केंद्रीय गृह सचिव राजीव गाबा को चिट्ठी लिखकर कहा था कि सिद्धू ने शिरोमणि अकाली दल की कथित जनविरोधी नीतियों और पार्टी की कथित तौर पर माफिया और आपराधिक तत्वों से साठगांठ की आलोचना करके उनसे रिश्ते बेहद तल्ख कर लिए हैं।

कल्सी के मुताबिक, सिद्धू को ड्रग्स, माइनिंग माफिया के गुस्से का भी सामना करना पड़ा है। बता दें कि जुलाई में डेरा सच्चा सौदा समर्थक सिद्धू की डेरा चीफ पर कथित टिप्पणी से भड़क गए थे और धमकी भी दी थी। अफसर की चिट्ठी के मुताबिक, सिद्धू के इमरान खान के शपथ ग्रहण में जाने और पाक आर्मी चीफ को गले लगाने के बाद उन पर खतरा बढ़ गया है। बता दें कि यूपी के दक्षिणपंथी संगठन हिंदू युवा वाहिनी ने सिद्धू के सिर पर 1 करोड़ रुपये के इनाम का ऐलान किया था। संगठन ने सिद्धू पर सीएम योगी आदित्यनाथ को गाली देने का आरोप लगाया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App