ताज़ा खबर
 

नवजो‍त सिंह सिद्धू के इस्‍तीफे से हैरान पंजाब भाजपा, नेता ने कहा- बिजली गिर गई

संसद के मानसून सत्र के पहले ही दिन सिद्धु के इस तरह के कदम से पंजाब भाजपा के पैरों तले से जमीन खिसक गई।

Author July 18, 2016 21:15 pm
नवजोत सिं‍ह सिद्धू पंजाब की राजनीति से दो साल तक दूर थे।

नवजोत सिंह सिद्धू का राज्‍य सभा से इस्‍तीफा देना भले ही अन्‍य लोगों और पार्टियों के लिए हैरान करने वाला फैसला ना रहा हो लेकिन भाजपा के लिए यह चकित कर देने वाला कदम था। सिद्धू के इस्‍तीफा देने की खबर जब पंजाब भाजपा के एक नेता को मिली तो उनकी प्रतिक्रिया थी, ”वज्रपात हो गया।” हालांकि भाजपा नेता का यह बयान कुछ ज्‍यादा ही नाटकीय था लेकिन पंजाब भाजपा यूनिट का भी ऐसा ही हाल था। संसद के मानसून सत्र के पहले ही दिन सिद्धु के इस तरह के कदम से पंजाब भाजपा के पैरों तले से जमीन खिसक गई। पंजाब भाजपा अध्‍यक्ष विजय सांपला ने कहा कि उन्‍हें इस बारे में कुछ नहीं पता।

नवजोत सिद्धू के इस्‍तीफे पर बोले Twitter यूजर्स- AAP को मिला एक और जोकर, आवाज निकाली तो किए जाएंगे बाहर

इसी बीच भाजपा की सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल नेता और पंजाब के डिप्‍टी सीएम सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि सिद्धू दंपत्ति के जाने से गठबंधन पर असर नहीं पड़ेगा। साथ ही चुनाव नतीजों पर भी असर नहीं होगा। उन्‍होंने कहा कि सिद्धू दंपत्ति चाहे आम आदमी पार्टी में जाए या खास पार्टी में भाजपा-अकाली दल का गठबंधन बना रहेगा। इधर, सिद्धू के बारे में साफ दिख रहा था कि उनका मन नए रोल में नहीं लग रहा है। वे पंजाब की राजनीति में जाना चाहते थे। पंजाब से वे दो साल से दूर थे।

BJP सांसद नवजो‍त सिंह सिद्धू ने राज्‍यसभा से दिया इस्‍तीफा, AAP में हो सकते हैं शामिल 

साल 2014 में आम चुनावों में सिद्धु की लोकसभा सीट अमृतसर से अरूण जेटली को टिकट दिया गया। इसके बाद से सिद्धू पंजाब से दूर हो गए। उन्‍होंने जेटली के लिए प्रचार भी नहीं किया। जेटली जब एक लाख वोटों से चुनाव हार गए, उसके बाद ही वे अमृतसर गए। नवजोत सिद्धू और बादल परिवार के बीच की अनबन जगजाहिर है। सिद्धू का सांसद रहते हुए आरोप था कि अकाली सरकार उनके संसदीय क्षेत्र में विकास के कामों को रोक रह रही है। साथ ही उन्‍हें धीरे-धीरे साइडलाइन कर दिया गया। अकाली दल से गठबंधन के चलते भाजपा ने भी सिद्धू को नजरअंदाज किया। सिद्धू की पत्‍नी नवजोत कौर सिद्धू भाजपा से विधायक थीं। उन्‍हें प्रकाश सिंह बादल सरकार में संसदीय सचिव बनाया गया था। लेकिन वे लगातार अकाली परिवार पर हमले बोल रही थीं।

नवजोत सिं‍ह सिद्धू ने कहा- बोझ बन गई थी सांसदी, सही-गलत की लड़ाई में तटस्‍थ नहीं रह सकता

अकाली दल को संदेह था कि सिद्धू पंजाब में बड़ा कद पाना चाहते हैं। हरियाणा विधानसभा चुनावों में प्रचार के दौरान सिद्धू ने अकालियों और बादल परिवार के खिलाफ जमकर हमले बोले। मामला यहां तक बढ़ गया था कि अकाली दल ने भाजपा आलाकमान से इसकी शिकायत की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App