ताज़ा खबर
 

मोहाली: वरिष्ठ पत्रकार और मां की गला दबाकर हत्या

केजे सिंह इंडियन एक्सप्रेस, द ट्रिब्यून और द टाइम्स आॅफ इंडिया जैसे अखबारों में वरिष्ठ पदों पर काम कर चुके थे।
Author चंडीगढ़ | September 24, 2017 01:45 am
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

पंजाब के मोहाली में रहने वाले वरिष्ठ पत्रकार केजे सिंह (66) की गला रेतकर और उनकी 92 साल की मां की गला दबाकर किसी अज्ञात हमलावरों ने हत्या कर दी। हमलावर अपने साथ एक टीवी और कार भी ले गए हैं। पंजाब सरकार ने इस हत्याकांड की जांच एसआइटी से कराने का आदेश दिया है। केजे सिंह इंडियन एक्सप्रेस, द ट्रिब्यून और द टाइम्स आॅफ इंडिया जैसे अखबारों में वरिष्ठ पदों पर काम कर चुके थे। केजे सिंह अपनी मां गुरचरण कौर के साथ मोहाली के फेज-3 के मकान नंबर 1796 में रहते थे। उनके बड़े भाई चंडीगढ़ और बहन मोहाली में रहती हैं। दोनों ने मां बेटे को खाना देने की बारी बांधी हुई थी। शनिवार दोपहर करीब दो बजे उनका भानजा खाना देने आया था। उसने देखा कि घर का दरवाजा खुला हुआ है। जब उसने भीतर जाकर देखा तो गुरचरण कौर का शव पहले कमरे के बेड पर पड़ा था। उसके कुछ ही दूरी परकेजे सिंह की खून से लथपथ लाश पड़ी थी।

घटना की सूचना मिलते ही मोहाली के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) और अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे। पुलिस की शुरुआती जांच में पता चला कि केजे सिंह के गले, पेट और हाथ पर तेजधार हथियार से वार किया गया है। इसे देखते हुए आशंका जताई जा रही है कि सिंह ने लुटेरों का मुकाबला किया होगा। जांच में पता चला है कि हमलावर घर में रखी एक एलसीडी और उनकी फोर्ड आयकन कार ले गए हैं जो कि घर के बाहर गैराज में खड़ी थी।
पुलिस सूत्रों के मुताबिक जांच को भटकाने के लिए लुटेरे घर से टीवी और कार ले गए हैं। क्योंकि घर का कीमती सामान घर में ही पड़ा है। यहां तक कि केजे सिंह के गले में सोने की चेन और मां गुरचरण कौर का सारा सोना भी वैसे ही पड़ा था। केजे सिंह ने घर में ही स्टूडियो बना रखा था। उनका लैपटॉप और कैमरा भी लुटेरे नहीं लेकर गए हैं।

जांच में पता चला है कि सिंह अक्सर अपने मेन गेट को ताला लगाकर रखते थे। शाम छह बजे मेन गेट में ताला लगा देते थे। ऐसे में हमलावरों के केजे सिंह
का जानकार होने की आशंका है। क्योंकि उनकी एक चप्पल घर के पहले दरवाजे के पास और दूसरी चप्पल उनके शव के पास मिली है। इससे लगता है कि उन्होंने किसी जानकार के आने पर ही दरवाजा खोला होगा। इसके बाद यह घटना हुई। वहीं केजे सिंह के घर में सफाई का काम करने वाली रेखा नाम की महिला ने पुलिस को बताया कि शनिवार सुबह वह काम करने आई थी। उसने घर के मेन गेट पर लगी घंटी बजाई। लेकिन कोई बाहर नहीं आया। करीब 15 मिनट इंतजार करने के बाद वो वापस लौट गई। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह इस हत्याकांड की जांच एसआइटी से कराने के आदेश दिए हैं। उनके निर्देश पर पुलिस ने एसआइटी का गठन कर दिया है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.