ताज़ा खबर
 

वीडियो: नशे के खिलाफ भड़का लोगों का गुस्सा तो पीट-पीटकर ली कथित तस्कर की जान, काट डाले हाथ-पैर

तलवंडी साबो के थाना प्रभारी जगदीश कुमार ने कहा, "शख्स पर एनडीपीएस कानून के तहत कई मामले चल रहे थे और वह तीन-चार दिन पहले ही जेल से बाहर आया था।" उन्होंने कहा कि भीड़ ने विनोद के हाथ...पैर काट डाले।

भीड़ ने कथित ड्रग तस्कर की पीट-पीटकर की हत्या। (Photo Source: Videograb/Twitter)

पंजाब के बठिंडा जिले में भीड़ की ओर से कानून को अपने हाथ में लिए जाने मामला सामने आया है। यहां एक युवक पर ड्रग तस्करी के आरोप में भीड़ ने हमला किया। हमला करने के साथ ही भीड़ ने उस शख्स के हाथ और पैर काट दिए। उसे घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां कुछ घंटों बाद उसकी मौत हो गई। जिले के तलवंडी साबो उपमंडल में युवाओं को नशीले पदार्थ पहुंचाने के संदिग्ध 30 वर्षीय एक व्यक्ति की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी। पुलिस ने कहा कि भागी वंडेर गांव में भीड़ ने गुरुवार विनोद कुमार नामक व्यक्ति पर धारदार हथियारों से हमला कर उसे जान से मार डाला। गावंवालों का कहना है कि उन्होंने उस शख्स के बारे में पुलिस को जानकारी दी थी लेकिन पुलिस की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की गई।

इस घटना का वीडियो भी बनाया गया। सोशल मीडिया पर सामने आए वीडियो में उस शख्स के पिटाई को दिखाया गया है। वीडियो में उसकी हालत को देखकर जाना जा सकता है कि उसे किस तरह से पीटा गया है। वीडियो में वह जमीन पर खून से लथपथ पड़ा हुआ नजर आ रहा है। गांववालों ने उसे घेर रखा है। उसके शरीर पर गंभीर जख्म नजर आ रहे हैं। पुलिस विनोद पर किए गए हमले के मोबाइल वीडियो की भी पड़ताल कर रही है।

तलवंडी साबो के थाना प्रभारी जगदीश कुमार ने कहा, “शख्स पर एनडीपीएस कानून के तहत कई मामले चल रहे थे और वह तीन-चार दिन पहले ही जेल से बाहर आया था।” उन्होंने कहा कि भीड़ ने विनोद के हाथ…पैर काट डाले। उसे तलवंडी साबो के सिविल अस्पताल ले जाया गया। वहां से उसे फरीदकोट के अस्पताल रेफर कर दिया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया। पुलिस ने इस मामले में तलवंडी साबो थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया है।

वहीं, ग्रामीणों का कहना कि उन्होंने पुलिस को बताया था कि विनोद गांव के युवाओं को नशीले पदार्थ उपलब्ध कराता है, लेकिन पुलिस ने कोई कदम नहीं उठाया। ग्रामीणों ने कहा कि जब वे कोई कार्रवाई न किए जाने का सवाल लेकर पुलिस उपाधीक्षक के पास जा रहे थे तो विनोद उनके रास्ते में आ गया और फिर बहस शुरू हो गई। विनोद के परिवार ने आरोप लगाया है कि गांव के एक अन्य युवक ने उस समय उसका अपहरण कर लिया था, जब वह अपना स्कूटर चोरी होने की शिकायत दर्ज कराने जा रहा था। इस दौरान कई लोगों ने उसपर हमला बोल दिया। उन्होंने विनोद द्वारा नशीले पदार्थों की आपूर्ति किए जाने के आरोपों से इनकार किया है।

(पीटीआई इनपुट के साथ)

 

गौ हत्या विरोध में 11 पुरूषों ने मुंडवाया सिर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App