ताज़ा खबर
 

हरियाणा: मेधावी लड़की बनेगी स्वतंत्रता दिवस पर एक दिन के लिए सरपंच

एक लड़की ने कहा अगर वो एक दिन के लिए सरपंच बनी तो सरकार से स्कूल-कॉलेज जाने वाली लड़कियों के लिए बस चलाने की मांग करेगी।

(फाइल फोटो)

हरियाणा के हिसार की एक ग्राम पंचायत ने एक स्थानीय स्कूल की किसी मेधावी छात्रा को स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) पर एक दिन के लिए सरपंच बनाने की घोषणा की है। हालांकि नियम इसकी इजाजत नहीं देते। धनसु गांव के मुखिया मनोहर लाल भाखर ने एक अंग्रेजी अखबार को बताया कि उन्होंने गांव की लड़कियों का हौसला बढ़ाने के लिए ये फैसला लिया है। मुखिया के अनुसार कक्षा 12वीं की किसी मेधावी छात्रा को स्वतंत्रता दिवस के दिन गांव के लिए जरूरी विकास कार्यों का फैसला लेने की छूट दी जाएगी। हालांकि अभी छात्रा के नाम का अंतिम चयन नहीं किया गया है।

एक दिन का सरपंच बनने वाली लड़कियों की कतार में शामिल सुशीला खटोर ने 12वीं में 81 प्रतिशत अंक मिले थे। वहीं एक अन्य छात्रा आरती को 87.2 प्रतिशत अंक मिले थे। खटोर ने टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार से कहा कि वो हिसार स्थित स्कूलोंऔर कॉलेजों में पढ़ने वाली लड़कियों के लिए सरकारी बस चलाए जाने की मांग करेंगी। हरियाणा देश के सबसे खराब लैंगिक अनुपात वाले राज्यों में है। साल 2011 की जनगणना के अनुसार हरियाणा में प्रति 1000 पुरुषों पर केवल 879 महिलाएं थीं। इससे पहले हरियाणा के बीबीपुर गांव के सरपंच  सुनील जागलान ने जब अपनी बेटी के साथ ‘सेल्फी विद डॉटर’ पोस्ट की तो वो सोशल मीडिया पर वायल हो गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कार्यक्रम ‘मन की बात’ में भी उनके प्रयास की सराहना की थी।

खराब लैंगिक अनुपात और महिलाओं की चिंताजनक स्थिति को सुधारने के लिए भारतीय पीएम ने 100 करोड़ रुपये के शुरुआती फंड से अक्टूबर 2014 में ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ योजना की शुरुआत की थी।

Read Also:

अश्‍लील मैसेज भेजने वाले को प्रेसिडेंट की बेटी ने फेसबुक पर किया बेनकाब, कहा-बेइज्‍जत करना जरूरी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App