scorecardresearch

पंजाबः पत्नी के साथ जेल में रहा मुख्तार अंसारी, असेंबली में जेल मंत्री का आरोप, कांग्रेस विधायक ने दी साबित करने की चुनौती

पंजाब की आप सरकार में मंत्री हरजोत बैंस ने कहा कि माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के खिलाफ यूपी सरकार ने 26 बार वारंट जारी किया, लेकिन तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने उसे नहीं भेजा। जब मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा तो कांग्रेस सरकार ने उसे बचाने के लिए वकील किया जिसकी फीस 11 लाख रुपए प्रतिदिन थी।

Mukhtar Ansari| Samajwadi party
माफिया मुख्तार अंसारी (फोटो सोर्स- एक्सप्रेस आर्काईव)

पंजाब की विधानसभा में मंगलवार (28 जून, 2022) को माफिया डॉन मुख्तार अंसारी को लेकर खूब बवाल हुआ। आप सरकार में जेल मंत्री हरजोत बैंस का आरोप है कि पिछली कांग्रेस सरकार में अंसारी को एक फर्जी केस में सवा दो साल राज्य की जेल में बंद किया गया था। उन्होंने यहां तक कहा कि जिस बैरक में 25 कैदियों को रखा जा सकता था, वहां सिर्फ अंसारी को रखा गया और साथ में उसकी बीवी भी रहती थी। उनके इन आरोपों के बाद सदन में हंगामा मच गया और कांग्रेस ने चुनौती दी कि इस बात को साबित करें।

अंसारी के लिए हायर किया 11 लाख प्रतिदिन फीस लेने वाला वकील
जेल मंत्री ने कहा कि उन्होंने एफआईआर दर्ज कर जांच के आदेश दे दिए हैं। जेल मंत्री का कहना है कि यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ से बचाने के लिए कांग्रेस सरकार ने 55 लाख रुपए वकील पर उड़ाए हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से 26 बार मुख्तार अंसारी के खिलाफ वारंट जारी किया गया, लेकिन कांग्रेस सरकार ने उसे नहीं भेजा। इसके बाद जब योगी सरकार सुप्रीम कोर्ट पहुंची तो वकील को केस लड़ने के लिए 11 लाख प्रतिदिन के हिसाब से फीस दी गई, जिसका बिल 55 लाख रुपए आया है। मंत्री ने कहा कि जांच के बाद दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

कांग्रेस की चुनौती- गलत साबित हुए तो मंत्री को सदन में देना होगा इस्तीफा
उधर, कांग्रेस नेता प्रताप सिंह बाजवा ने कहा कि अगर मंत्री की ये बात झूठी साबित होती है, तो उन्हें विधानसभा में इस्तीफा देना पड़ेगा क्योंकि उन्होंने सदन में ये आरोप लगाए हैं। वहीं, कांग्रेस सरकार में जेल मंत्री रहे सुखजिंदर रंधावा ने बैंस को चुनौती दी कि वो ये साबित करें कि मुख्तार अंसारी के साथ जेल में उनकी पत्नी भी रहती थी।

गौरतलब है कि पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी इस वक्त उत्तर प्रदेश की बांद जेल में बंद है। प्रशासन ने अंसारी का पहरा कड़ा करने का निर्णय लिया है, जिसके चलते सीसीटीवी कैमरों और बॉडी कैम की संख्या बढ़ा दी गई है। इतना ही नहीं सुरक्षा में लगे पुलिसकर्मियों को भी हर 30 दिन में बदलने की व्यवस्था की गई है।

बता दें कि पिछले दिनों मुख्तार अंसारी को जेल में वीआईपी ट्रीटमेंट मिलने का मामला सामने आया था। यहां औचक निरीक्षण करने पहुंचे अधिकारियों को अंसारी की बैरक से दशहरी आम और कीवी समेत ऐसी चीजें मिली थीं, जिनका जेल मैनुअल में जिक्र नहीं है। यह मामला सामने आने के बाद अधिकारियों ने कार्रवाई करते हुए कुछ जेलकर्मियों को सस्पेंड कर दिया था।

पढें पंजाब (Punjab News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X