ताज़ा खबर
 

चंडीगढ़ में सिख महिलाओं को हेलमेट पहनने से रियायत

वहीं दूसरी तरफ प्रशासन ने केवल दस्तार पहनने वाली महिलाओं को ही हेलमेट पहनने से रियायत दी है| अन्य को हेलमेट पहनना अनिवार्य कर दिया गया है |

Author October 11, 2018 7:08 PM
सिख महिलाओं को हेलमेट पहनने से छूट

चंडीगढ़ में सिख महिलाओं को हेलमेट पहनने से रियायत दे दी गई है। गृह मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि सिख निकायों ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह के पास एक प्रतिवेदन भेजा था | जिसके बाद यह फैसला लिया गया है। अकाली दल के नेता और पंजाब के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल मांग पर जोर देने के लिए गृह मंत्री से मिले थे | जिसके बाद सिख महिलाओं को चंडीगढ़ में दुपहिया वाहनों पर हेलमेट पहनने से छूट की घोषणा की गयी थी । मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि उसने चंडीगढ़ प्रशासन को दिल्ली सरकार द्वारा जारी की गयी अधिसूचना का पालन करने की सलाह दी है। अधिसूचना में केंद्रशासित क्षेत्र चंडीगढ़ में दुपहिया वाहन चलाते समय सिख महिलाओं को हेलमेट पहनने से छूट दी गयी है।

दिल्ली परिवहन विभाग ने चार जून, 1999 को जारी की गयी अपनी अधिसूचना के जरिये दिल्ली मोटर वाहन अधिनियम, 1993 के नियम 115 में संशोधन करते हुए महिलाओं के लिए ‘‘मोटरसाइकिल चलाते या सवारी करते हुए सुरक्षात्मक हेडगियर (सिर को सुरक्षित रखने वाला उपकरण) पहनने’’ को वैकल्पिक बना दिया था। 28 अगस्त, 2014 में जारी की गयी अधिसूचना के जरिये नियम में फिर एक बार संशोधन किया गया जिसके तहत दिल्ली मोटर वाहन अधिनियम, 1993 के उपनियम 115 में ‘‘महिला’’ शब्द की जगह ‘‘सिख महिला’’ शब्द डाला जाए।

जहां एक ओर दिल्ली सरकर ने चंडीगढ़ प्रशासन को अधिसूचना का पालन करने की सलाह दी है| वहीं दूसरी तरफ प्रशासन ने केवल दस्तार पहनने वाली महिलाओं को ही हेलमेट पहनने से रियायत दी है| अन्य को हेलमेट पहनना अनिवार्य कर दिया गया है | अकाली दल के प्रवक्ता दलजीत सिंह चीमा ने धार्मिक भावनाओं का हवाला देते हुए कहा की सिख समुदाय में किसी टोपी या हेलमेट को मान्यता नहीं दी गई है| सिख धर्म के अनुसार महिलाओं का दस्तार पहनना अनिवार्य मन गया है|

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App