पंजाबः रोपड़ में किसानों ने खोला सिद्धू के खिलाफ मोर्चा, कैप्टन और मोदी सरकार मुर्दाबाद के नारे लगा बोले- नवजोत ने दिखाई झूठी हमदर्दी

यह पहली बार नहीं है, जब किसी कांग्रेस नेता को किसानों के गुस्से का सामना करना पड़ा है। इससे पहले जब सिद्धू किसान आंदोलन के बीच महमूदपुर गांव जा रहे थे, तो किसान आंदोलन के चलते उन्हें अपना रास्ता बदलना पड़ा था।

Navjot Singh Sidhu, Farmers Protest
पंजाब के रोपड़ में किसानों ने नए कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ लगाए नारे।

पंजाब में पिछले एक साल से चल रहे किसान आंदोलन को लेकर माहौल गर्म हो गया है। दरअसल, राज्य में विधानसभा चुनावों की हलचल के बीच सभी दल अपनी ओर से किसानों के समर्थन की बात कह रहे हैं, लेकिन किसान संगठनों का आरोप है कि न तो राज्य सरकार और न ही कांग्रेस आलाकमान उनके मुद्दे को जोर-शोर से उठा पाया है। साथ ही हाल ही में कांग्रेस ने पंजाब में अपने लिए नया प्रदेशाध्यक्ष चुन लिया, जिसके चलते किसानों का मुद्दा तक दब गया। अब इसके विरोध में रोपड़ में किसानों ने नवजोत सिंह सिद्धू और सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह का विरोध किया है। साथ ही पीएम नरेंद्र मोदी के विरोध में भी नारेबाजी की।

बताया गया है कि रोपड़ में किसानों ने सड़क पर उतर कर मजदूर एकता जिंदाबाद के नारे लगाए। इसके बाद इकट्ठा हुए किसानों ने पंजाब कांग्रेस के नवनिर्वाचित अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह मुर्दाबाद के नारे लगाए। इस दौरान किसानों ने केंद्र सरकार को भी नहीं बख्शा और नरेंद्र मोदी के खिलाफ भी नारेबाजी की। किसानों का कहना था कि सिद्धू ने उनसे झूठी हमदर्दी दिखाई।

किसान आंदोलन के चलते सिद्धू को बदलना पड़ा था रास्ता: बता दें कि यह पहली बार नहीं है, जब किसी कांग्रेस नेता को किसानों के गुस्से का सामना करना पड़ा है। इससे पहले जब सिद्धू किसान आंदोलन के बीच महमूदपुर गांव जा रहे थे, तो किसान आंदोलन के चलते उन्हें अपना रास्ता बदलना पड़ा। इसके चलते वे कार्यक्रम स्थल पर तीन घंटे तक देर से पहुंचे थे। इस दौरान किसान मजदूर संघर्ष कमेटी (KMSC) ने सिद्धू के खिलाफ प्रदर्शन किए और उन्हें काले झंडे दिखाए। कार्यक्रम स्थल पर भी किसान नौ घंटे तक सड़कों पर काले झंडे लिए खड़े रहे।

आम आदमी पार्टी ने साधा था कांग्रेस के कार्यक्रम पर निशाना: हाल ही में आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत सिंह मान ने आरोप लगाया है कि नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष बनाए जाने के जश्न में आंदोलन कर रहे किसानों का अपमान किया गया है। उन्होंने कहा कि सिद्धू की ताजपोशी के जश्न में कांग्रेस सांसद संसद से गैरहाजिर रहे, जबकि इस दौरान किसानों ने सभी विपक्षी दलों ने अनुरोध किया था कि सभी सांसद सदन में रहें और कृषि कानूनों का विरोध करें।

उन्होंने कहा कि किसानों के समर्थन में आम आदमी पार्टी का संघर्ष जारी रहेगा। लेकिन कांग्रेस को यह समझना चाहिए कि अगर वह किसानों के समर्थन में जनता के सामने नहीं आते हैं तो इससे उनकी लड़ाई कमजोर पड़ेगी। मान ने कृषि कानूनों के बारे में कांग्रेस पर दोहरा स्टैंड रखने का आरोप लगाते हुए कहा कि किसान संघर्ष के लिए मजबूर हैं, वहीं कांग्रेसी ताजपोशी के जश्न में डूबी हुई है। ऐसे हालात में जश्न शोभा नहीं देते।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट