ताज़ा खबर
 

पंजाब: जिस जेल के हिस्से में 1923 में बंद थे जवाहर लाल नेहरू, बारिश के चलते ढहा

1923 में देश के पहले पीएम जवाहर लाल नेहरू और कांग्रेस के दो अन्य नेता जिस जेल में बंद थे, वह मूसलाधार बारिश की वजह से ध्वस्त हो गया।

Author चंडीगढ़ | July 19, 2019 3:29 AM
जवाहर लाल नेहरू फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

पंजाब के फरीदकोट जिले के जैतो शहर में स्थित जेल के जिस प्रकोष्ठ में 1923 में देश के पहले पीएम जवाहर लाल नेहरू और कांग्रेस के दो अन्य नेता बंद थे, वह मूसलाधार बारिश की वजह से ध्वस्त हो गया। स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान नेहरू और उनके सहयोगी निषेधाज्ञा की अवज्ञा के आरोप में कुछ समय के लिए वहां बंद रहे थे। दरअसल, नेहरू के तत्कालीन नाभा रियासत में प्रवेश पर पाबंदी थी जिसका उन्होंने उल्लंघन किया था।

फरीदकोट के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजबचन सिंह संधू ने बताया कि उस ऐतिहासिक जेल के 240 वर्गफुट वाले कमरे की एक दीवार बुधवार को भारी बारिश के कारण गिर गई। इस कमरे में नेहरू, के संथानम और एटी गिडवानी को 22 सितंबर 1923 को बंद किया गया था। अकालियों द्वारा बरतानिया हुकूमत के खिलाफ चलाये गए ‘जैतो का मोर्चा’ में हिस्सा लेने के लिए नेहरू और दो अन्य कांग्रेस नेता जैतो पहुंचे थे। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि कमरे की स्थिति अच्छी नहीं थी और पिछले कुछ सालों से इसकी देख रेख के लिए कुछ नहीं किया गया था।

मोर्चा का समर्थन करने संबधी एक प्रस्ताव 1923 में कांग्रेस में पास किया गया था, उसके बाद नेहरू यहां पहुंचे थे। नेहरू को दो अन्य कांग्रेस नेताओं के साथ पार्टी ने राजनीतिक गतिविधियों की जानकारी लेने के लिए यहां भेजा था। जेल में एक दिन रहने के बाद नेहरू समेत तीनों कांग्रेस नेताओं को नाभा जेल भेज दिया गया। वर्ष 2008 में पंजाब दौरे के दौरान कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने 23 सितंबर को उस प्रकोष्ठ में गए थे जहां देश के पहले प्रधानमंत्री एक बार बंद हुए थे। यह प्रकोष्ठ जैतो पुलिस थाने के बगल में है। पंजाब कांग्रेस के महासचिव पवन गोयल ने कहा कि तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने इस प्रकोष्ठ की देख रेख के लिए 65 लाख रुपये जारी किये थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App