ताज़ा खबर
 

पंजाब के वित्त मंत्री बोले- आईएएस अफसरों को नहीं आती अंग्रेजी, अधिकारियों का फूटा गुस्सा

मंत्री द्वारा इस तरह सार्वजनिक तौर पर आलोचना करने पर आइएएस अफसरों ने अपनी नाराजगी जाहिर की है। अफसरों ने खुलेआम तो कुछ नहीं बोला, लेकिन अपना गुस्सा उतारने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया।

पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत बादल (image source-PTI)

पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने एक बयान देकर आईएएस अफसरों को नाराज कर दिया है। दरअसल, पंजाब यूनिवर्सिटी में वर्ल्ड पंजाबी कॉन्फ्रेंस में बोलने के दौरान वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने अफसरों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि केवल एक-दो आईएएस अफसरों को ही सही अंग्रेजी लिखनी आती है। जब भी मैं कोई लेटर या भारत सरकार को इन लोगों द्वारा लिखा गया मेमोरेंडम पढ़ता हूं तो कई बार मेरा सिर शर्म से झुक जाता है कि कैसे इन लोगों ने आईएएस का एग्जाम पास किया। वहीं, मंत्री द्वारा इस तरह सार्वजनिक तौर पर आलोचना करने पर आईएएस अफसरों ने अपनी नाराजगी जाहिर की है। अफसरों ने खुलेआम तो कुछ नहीं बोला, लेकिन अपना गुस्सा उतारने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया।

आईएएस अफसरों के एक वॉट्सऐप ग्रुप में 5-6 आईएएस अधिकारियों ने पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत बादल के बयान पर कड़ी नाराजगी जाहिर की है। एक सीनियर अधिकारी ने लिखा कि देश भर में लाखों लोग आईएएस बनने के लिए यूपीएससी की परीक्षा देते हैं, लेकिन उनमें से कुछ ही चुने जाते हैं। एक अन्य अधिकारी ने लिखा कि वित्त मंत्री ने तो यूपीएससी की विश्वसनीयता पर ही सवाल खड़े कर दिए हैं। यह मंत्री जी के लिए भी अच्छा नहीं है। एक अन्य अधिकारी ने लिखा कि मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा कि मनप्रीत बादल जैसा सीनियर मंत्री सार्वजनिक तौर पर इस तरह का बयान दे सकता है।

हालांकि, अधिकारियों में एक बेचारगी का भाव भी दिखा। एक अधिकारी ने कहा कि हमें इसके खिलाफ आवाज उठानी चाहिए, लेकिन क्या कर सकते हैं, आखिर वह एक मंत्री है। एक अधिकारी ने अपनी पहचान जाहिर नहीं करते हुए कहा कि हम खुद उनकी उर्दू वाली पंजाबी नहीं समझ पाते हैं। वहीं, आईएएस अफसर एसोसिएशन ने इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। एसोसिएशन के प्रधान केबीएस सिद्धू ने कहा कि हर कोई अपने विचार व्यक्त करने के लिए स्वतंत्र है और उसमें मंत्री भी शामिल हैं। मैं इस मुद्दे पर कुछ नहीं कहना चाहता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App