ताज़ा खबर
 

पंजाब: पंचायत का फरमान- गांव के लड़के-लड़कियों ने आपस में किया प्‍यार तो होगा बहिष्‍कार

लुधियाना जिले के जगरांव गांव में नया फरमान है कि गांव में भागकर शादी करने वाले या प्रेम विवाह करने वालों को समाजिक तौर पर बहिष्कृत कर दिया जाएगा। यह फैसला कुछ दिन पहले गांव की पंचायत में लिया गया।

Author March 16, 2019 12:58 PM
पंजाब के लुधियाना जिले के एक गांव में भागकर शादी करने और प्रेम विवाह पर बहिष्कार का फरमान पंचायत ने सुनाया है।(प्रतीकात्मक तस्वीर)

लुधियाना जिले के जगरांव गांव में नया फरमान है कि गांव में भागकर शादी करने वाले या प्रेम विवाह करने वालों को समाजिक तौर पर बहिष्कृत कर दिया जाएगा। यह फैसला कुछ दिन पहले गांव की पंचायत में लिया गया। इस पंचायत का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।इस वीडियो में देखा जा सकता है। जिसमें गांव वालों के सामने इस फरमान को सरपंच की मौजूदगी में पढ़ा जा रहा है। पंचायत की बैठक जगरांव के गालिब कलन गांव में हुई। पंचायत में यह भी कहा गया कि इस गांव में जो लड़का या लड़की भागकर या आपस में प्रेम विवाह करेंगें उन्हें समाजिक तौर के साथ -साथ बुनियादी जरूरत से भी महरूम रखा जाएगा। ऐसा करने वालों के लिए पानी, बिजली और पानी का निकास जैसी सुविधाओं पर भी रोक लगा दी जाएगी।

इस मामले पर इंडियन एकस्प्रेस ने जब गांव के सरपंच से बातचीत की तो उन्होंने कहा कि यह फैसला लड़के- लड़कियों के मां-बाप और लड़के लड़कियों को भी सबक सिखाने के लिए लिया गया है। प्रेंम विवाह और भागकर शादी करने से गांव का नाम खराब होता है और साथ ही दूसरे बच्चों पर भी बुरा असर पड़ता है। पंचायत का कहना है कि कोई औपचारिक प्रस्ताव पारित नहीं किया गया है। लेकिन एडवाइजरी गांव के लोगों के सामने पढ़ दी गई है। ताकि माता पिता और उनके बच्चे इस बात का ध्यान रख सकें।

पंचायत के सामने पढ़े गए फरमान में लिखा गया था कि हम यहां इकट्ठा हुए हैं और इस पंच में यह फैसला लिया गया है कि जो लड़के- लड़किया अपने गांव में ही शादी कर लेते और अपना मां-बाप की परवाह किए बिना भागकर शादी कर लेते हैं और फिर कुछ दिनों बाद अपने ही गांव वापस लौटकर आते हैं। ऐसा करने से हमारे गांव की बदनामी होती है जबिक दूसरे बच्चों पर इसका गलत असर होता है। इसलिए यह फैसला लिया गया है कि जो भी लड़का-लड़की ऐसा करेगा या करेगी उसे गांव से बहिष्कृत किया जाएगा। इसके अलावा उससे सारी सरकारी सहुलियतें भी छीन ली जाएंगी।

वहीं पुलिस का इस मामले को लेकर कहना है कि कानूनी तौर पर गांव में ऐसा कोई फैसली नहीं लिया गया है। अगर गांव वालों की तरफ से ऐसा कोई फैसला लिया जाता तो हम कार्रवाई करते  लेकिन ऐसा नहीं हैं। अगर इस एडवाइजरी के लिहाज से भी कोई पीड़ित पाया जाता है तो पुलिस अपना काम जरूर करेगी। गौरतलब है यह कि यह पहला ऐसा मामला नहीं है इससे पहले गत वर्ष अप्रैल में लुधियाना के दोराहा ब्लाक  के एक गांव में ही ऐसा मामला आया था। जहां 21 वर्षीय लड़के और 19 वर्षीय लड़के ने शादी कर ली थी जिसके बाद गांव वालों ने उनका बहिष्कार कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App