ताज़ा खबर
 

पुलवामा में शहीद हुए 25 साल के रोहित यादव, पिता को है शहादत पर गर्व

उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात का लाल पुलवामा में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान शहीद हो गया। देर रात कानपुर देहात के डेरापुर पुलवामा में शहीद हुए लाल की खबर पहुंचते ही पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई और परिवार में कोहराम मच गया।

Author कानपुर | May 17, 2019 10:05 AM
पुलवामा में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए कानपुर के रोहित यादव

उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात का लाल पुलवामा में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान शहीद हो गया। देर रात कानपुर देहात के डेरापुर पुलवामा में शहीद हुए लाल की खबर पहुंचते ही पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई और परिवार में कोहराम मच गया। मिली जानकारी के अनुसार कानपुर देहात के डेरापुर कस्बे के निवासी गंगादीन यादव का बड़ा बेटा रोहित यादव (25) 44आतंकवादी निरोधक दस्ते का आरआर बटालियन 17 राजपूत रेजीमेंट में तैनात था। देर शाम पुलवामा में आतंकियों से हुई मुठभेड़ के दौरान कानपुर देहात के लाल रोहित यादव को गोली लग गई और वह इस मुठभेड़ में शहीद हो गए।

रोहित यादव की शहादत की खबर कश्मीर से सेना के अफसरों ने रोहित यादव के परिजनों को दी इसकी जानकारी मिलते ही पूरे गांव में मातम सा छा गया और घर में कोहराम मच गया.घर में मौजूद भाई सुमित यादव ने बताया कि रोहित 2011 में सेना में भर्ती हुआ था। उसकी शादी 3 साल पहले वैष्णवी से हुई थी और अभी 1 माह पूर्व छुट्टी लेकर घर भी आया था लेकिन उसे वापस जल्दी वापस जाना पड़ गया और कह गया था कि जल्दी लौट कर आता हूं।शहीद रोहित यादव पर घर की पूरी जिम्मेदारी थी घर में रिटायर्ड पिता गंगादीन यादव,मां विमला,पत्नी वैष्णवी है जिनकी पूरी जिम्मेदारी वही उठा था था।

आंसुओं में डूबे पिता ने कहा मुझे गर्व है-

सेना की सप्लाई कोर में हवलदार के पद पर रहे शहीद रोहित यादव के पिता गंगादीन यादों में रो रो कर कहा कि, ”मुझे अपने बेटे पर गर्व है, मेरा लाल भारत माता की रक्षा करते हुए शहीद हो गया, मैं भी एक सैनिक हूं इसलिए अच्छे से जानता हूं एक सैनिक के लिए देश की सुरक्षा ही सर्व परी है मेरे बेटे ने देश की सुरक्षा करते हुए अपनी शहादत दी है, मेरा सीना गर्व से चौड़ा हो गया लेकिन क्या करूं एक पिता हूं इसलिए अपने आंसुओं को रोक नहीं पा रहा हूं।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App