ताज़ा खबर
 

कांग्रेस ने ‘छीन’ ली थी सीएम की कुर्सी तो एन रंगास्वामी ने बनाई थी अपनी पार्टी, चौथी बार बने पुदुचेरी के मुख्यमंत्री

AINRC चीफ एन रंगास्वामी ने पुदुचेरी के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। वह चौथी बार राज्य के सीएम बने हैं। पहले वह कांग्रेस में हुआ करते थे लेकिन इस बार एनडीए का हिस्सा थे।

एन रंगास्वामी ने ली पुदुचेरी के मुख्यमंत्री पद की शपथ। फोटो- पीटीआई

विधानसभा चुनाव में एनडीए की अगुवाई कर रहे AINRC नेता एन रंगासामी ने शुक्रवार को यहां राज निवास में हुए एक संक्षिप्त समारोह में पुदुचेरी के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। उपराज्यपाल तमिलिसाई सौंदराराजन ने रंगासामी को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। वह चौथी बार मुख्यमंत्री बने हैं। उन्होंने ईश्वर को साक्षी मानकर तमिल भाषा में पद की शपथ ली। शुक्रवार को केवल रंगासामी ने ही शपथ ली। वह एनडीए सरकार की अगुवाई करेंगे जिसमें एआईएनआरसी और भारतीय जनता पार्टी शामिल हैं।

एआईएनआरसी पार्टी सूत्रों ने बताया कि पार्टी और भाजपा के अन्य मंत्रियों को अगले कुछ दिनों में शपथ दिलाई जाएगी। बता दें कि एन रंगास्वामी लंबे समय से राजनीति से जुड़े हुए हैं और उन्होंने पहला विधानसभा चुनाव साल 1990 में लड़ा था। इस चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। लेकिन इसके बाद हुए चुनाव में जीते तो उन्हें कृषि और सहकारिता मंत्री का पदभार दिया गया।

जब कांग्रेस ने ले ली थी कुर्सी?
एन रंगास्वामी कांग्रेस में हुआ करते थे। साल 2001 के चुनाव में जीत के बाद उन्हें राज्य का मुख्यमंत्री बना दिया गया। उनके दूसरे कार्यकाल के दौरान कांग्रेस के अंदर कुछ मनमुटाव हो गया और फिर उनसे त्यागपत्र मांग लिया गया।

रंगास्वामी की जगह वी वैथिलिंगम को मुख्यमंत्री बना दिया गया। इसके बाद साल 2011 में उन्होंने अपनी पार्टी बना ली जिसे ऑल इंडिया एन आर कांग्रेस के नाम से जाना जाता है। इस बार का चुनाव उनकी अगुवाई में लड़ा गया जिसमें भाजपा भी शामिल थी।

बता दें कि जब रंगास्वामी पुदुच्चेरी के सीएम थे उसी समय 2006 में इंडिया टुडे द्वारा कराए गए सर्वे में राज्य को सबसे अधिक रहने योग्य राज्य का दर्जा दिया गया था।उन्होंने कॉलेज और स्कूल में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स के लिए फ्री ट्यूशन की भी व्यवस्था की थी। लोगों के बीच उन्हें मिस्टर ऑनेस्ट के नाम से भी जाना जाता है।

Next Stories
1 पुडुचेरी चुनाव: प्रचार के लिए BJP ने किया आधार डेटा का इस्तेमाल? मद्रास HC बोला- आरोप निराधार नहीं, UIDAI से मांगा जवाब, EC को याद दिलाई जिम्मेदारियां
ये पढ़ा क्या?
X