scorecardresearch

“अग्निपथ” के खिलाफ आक्रोशः गुबार निकाल बोले छात्र- पेंशन काटनी है तो, लाखों की तनख्वाह वाले मंत्रियों की काटो

केंद्र सरकार ने हाल ही में अग्निपथ योजना को मंजूरी दी है। जिसका अधिक विरोध बिहार में देखने को मिल रहा है। छात्रों ने इस योजना का विरोध करते हुए जहानाबाद में जमकर बवाल किया।

“अग्निपथ” के खिलाफ आक्रोशः गुबार निकाल बोले छात्र- पेंशन काटनी है तो, लाखों की तनख्वाह वाले मंत्रियों की काटो
रांची: अग्निपथ योजना के विरोध में सेना भर्ती कार्यालय के बाहर युवाओं का प्रदर्शन(फोटो सोर्स: PTI)।

केंद्र सरकार द्वारा सेना में भर्ती के लिए लाई गई अग्निपथ योजना का देश के कई हिस्सों में विरोध देखा जा रहा है। युवाओं का कहना है कि अगर सरकार को पेंशन में कटौती करनी है तो नेताओं का करे, जिनकी मोटी तनख्वाह है। मेहनत करने वालों का क्यों पेंशन काट रही है सरकार। बता दें कि इस विरोध का असर बिहार और देश के अलग- अलग सूबों में बड़े स्तर पर देखा जा रहा है।

बता दें कि सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। जो बिहार के बक्सर का है। इसमें एक युवा अपनी समस्याओं के बारे में कहते दिख रहा है कि अगर सरकार को पेंशन काटना है तो 2-3 लाख सैलरी लेने वाले मंत्रियों की पेंशन काटे।

एक अन्य युवा ने इस योजना को लेकर कहा, “अगर पेंशन काटनी है तो मोटी रकम उठाने वाले नेताओं की काटिए। इस देश का युवा सुरक्षित नहीं है। इन लोगों को क्या पता कि मेहनत क्या होता, अगर देखना है तो गांव में जाकर फील्ड में देखिए।”

छात्र ने अपनी समस्या बताते हुए कहा कि एक मध्यवर्गीय मां-बाप अपना खून पसीने की कमाई से अपने बेटे को पढ़ाकर, सेना में भेजने का सपना देखते हैं। लेकिन ये लोगों का जो मन होता है, वो कानून बना देते हैं। यह देश किसी के बाप का नहीं है। जितना अधिकार मोदी योगी या किसी का है, उतना ही हमारा है। युवाओं का कहना है कि जबतक हमारी बात नहीं सुनी जाएगी तो हमारा आंदोलन जारी रहेगा।

वहीं बिहार के जहानाबाद में भी कई युवाओं ने सेना में अग्निपथ योजना को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। जहानाबाद में एक प्रदर्शनकारी ने कहा, “हम कड़ी मेहनत करने के बाद सेना में भर्ती होते हैं। PM निर्णय ले रहे हैं कि 4 साल की नौकरी होगी। किस हिसाब से 4 साल की नौकरी होगी क्योंकि 8 महीने की ट्रेनिंग और 6 महीने की छुट्टी होगी तो लगभग 3 साल में हम देश की क्या रक्षा करेंगे। यह निर्णय वापस लेना होगा।”

बता दें कि केंद्र सरकार ने हाल ही में अग्निपथ योजना को मंजूरी दी है। जिसका अधिक विरोध बिहार में देखने को मिल रहा है। छात्रों ने इस योजना का विरोध करते हुए जहानाबाद में जमकर बवाल किया। इस विरोध प्रदर्शन को दूसरा दिन हो चुका है। जिसमें गुरुवार को छात्रों ने पुलिस पर पथराव किया और सड़क पर आगजनी भी की। बिहार में हो रहा विरोध आरा, छपरा, बक्सर और नवादा में भी देखने को मिल रहा है।

छात्रों का आरोप है कि सरकार इस योजना के जरिए सेना में पेंशन सिस्टम को बंद करना चाहती है।

अग्निपथ योजना: सेना में युवाओं की भर्ती के उद्देश्य केंद्र सरकार की तरफ से अग्निपथ योजना लाई गई है। इसके जरिए सेना में हर साल करीब 45 हजार युवाओं को चार साल के नौकरी मिलेगी। नौकरी पाने वाले युवाओं की उम्र 17.5 साल से लेकर 21 साल के बीच होनी चाहिए। वहीं नौकरी के चार साल पूरे पर इनकी कार्यकुशला और दक्षता के आधार में इनमें से 25 फीसदी युवाओं स्थायी काडर में भर्ती किया जाएगा और बाकी को सेना से रिटायर कर दिया जाएगा।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट