ताज़ा खबर
 

ताज को प्रदूषण से बचाने के लिए जुलूस, नदी का तल सूखने से पहुंच रहा नुकसान

जुलूस के आयोजकों ने कहा कि यमुना नदी के तल की सफाई की जरूरत है। नदी कार्यकर्ता राहुल राज व दीपक राजपूत ने कहा, "टनों पॉलीथिन व जूतों के कारखानों से निकलता चमड़े के कण मिला पानी को रोके हुए है और नदी को प्रदूषित कर रहा है।

Author March 26, 2018 12:22 AM
आगरा स्थित ताजमहल फाइल फोटो।

17वीं सदी के प्यार के स्मारक ताजमहल को प्रदूषण से होने वाले खतरे को उजागर करने के लिए पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने रविवार को यमुना नदी के किनारे पोस्टरों व बैनर के साथ जुलूस निकाला। कार्यकर्ता देवाशीष भट्टाचार्य ने कहा कि इस गर्म मौसम में ताज को लगातार नुकसान पहुंच रहा है, क्योंकि नदी का तल सूख चुका है। उन्होंने कहा, “हालांकि, योगी सरकार ने यमुना पर ताजमहल की प्रवाह की दिशा में एक बैराज की घोषणा की है, लेकिन इसकी आधारशिला रखने के लिए कोई तारीख तय नहीं की गई है।”

प्रदर्शनकारियों ने कहा, “हम नदी में पानी का बेरोक प्रवाह चाहते हैं, जिससे ताजमहल, आगरा किला, एतिमाद-उद-दौला मकबरे और राम बाग में बदलाव सुनिश्चि हो और वायु प्रदूषण में कमी लाई जा सके।” नदी जोड़ो अभियान के रंजन शर्मा व शैलेंद्र सिंह नरवार ने आईएएनएस से कहा, “हम बीते कई सालों से जुलूस निकाल रहे हैं और बैठकें कर रहे हैं, लेकिन दुर्भाग्य से वायु प्रदूषण को कम करने के लिए कुछ भी काम नहीं हुआ, जहां बहुत से विश्व विरासत स्मारक हैं।”

HOT DEALS
  • Moto G6 Deep Indigo (64 GB)
    ₹ 15727 MRP ₹ 19999 -21%
    ₹0 Cashback
  • I Kall Black 4G K3 with Waterproof Bluetooth Speaker 8GB
    ₹ 4099 MRP ₹ 5999 -32%
    ₹0 Cashback

जुलूस के आयोजकों ने कहा कि यमुना नदी के तल की सफाई की जरूरत है। नदी कार्यकर्ता राहुल राज व दीपक राजपूत ने कहा, “टनों पॉलीथिन व जूतों के कारखानों से निकलता चमड़े के कण मिला पानी को रोके हुए है और नदी को प्रदूषित कर रहा है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App