ताज़ा खबर
 

प्रियंका के फेवरेट अजय कुमार लल्लू बने यूपी कांग्रेस के नए अध्यक्ष, राज बब्बर को किया रिप्लेस

कांग्रेस विधायक दल के नेता रहे अजय कुमार लल्लू तमकुही राज सीट से दूसरी बार विधायक बने हैं। लल्लू की जगह विधायक दल की कमान अब आराधना मिश्रा 'मोना' को सौंपी गई है। एक अन्य आदेश में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक सलाहकार समिति भी बनाई है।

Author लखनऊ | Published on: October 8, 2019 10:10 AM
कांग्रेस नेता अजय कुमार लल्लू (फोटो- स्थानीय)

उत्तर प्रदेश में उपचुनाव (UP By-Election 2019) से ठीक पहले कांग्रेस ने संगठन में बड़ा फेरबदल किया है। यूपी कांग्रेस की बागडोर अब प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) के पसंदीदा अजय कुमार लल्लू को सौंपी गई है। उन्हें राज बब्बर (Raj Babbar) की जगह यूपी कांग्रेस का अध्यक्ष (UP Congress President) नियुक्त किया गया है। सोमवार (7 सितंबर) को कांग्रेस ने चार उपाध्यक्षों, 12 महासचिवों और 24 सचिवों की भी नियुक्ति की है।

सोनिया ने सलाहकार समिति भी बनाईः कांग्रेस विधायक दल के नेता रहे अजय कुमार लल्लू तमकुही राज सीट से दूसरी बार विधायक बने हैं। लल्लू की जगह विधायक दल की कमान अब आराधना मिश्रा ‘मोना’ को सौंपी गई है। एक अन्य आदेश में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक सलाहकार समिति भी बनाई है। इसमें अजय राय, अजय कपूर, मोहसिना किदवई, पीएल पुनिया और आरपीएन सिंह समेत 18 लोग हैं। अजय राय वाराणसी से विधायक रह चुके हैं और दो बार पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव हार चुके हैं।

ये हैं यूपी कांग्रेस के चार उपाध्यक्षः उत्तर प्रदेश में रणनीति और योजना के लिए एक 8 सदस्यीय समिति बनाई गई है। इसमें जितिन प्रसाद, राजीव शुक्ला, राजाराम पाल, इमरान मसूद और ब्रज लाल खाबरी भी शामिल हैं। पार्टी के मुताबिक चार उपाध्यक्षों में वीरेंद्र चौधरी (पूर्वी यूपी), पंकज मलिक (पश्चिम), पार्टी के संगठनों एनएसयूआई और पीवायसी के लिए ललितेषपति त्रिपाठी और दीपक कुमार शामिल हैं। 12 महासचिवों में आलोक प्रसाद राय, विश्व विजय सिंह, यूसुफ अली तुर्क और योगेश दीक्षित शामिल हैं।

National Hindi News, 8 October 2019 LIVE Updates: देशभर की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

बता दें कि राज्य में कांग्रेस पिछले चुनावों में लगातार बुरी तरह हार का सामना कर चुकी है। विधानसभा चुनाव 2017 में पार्टी ने सपा से हाथ मिलाया था, लेकिन लोकसभा चुनाव में अकेले लड़ी थी। लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस सिर्फ एक सीट पर जीत दर्ज कर पाई थी। ऐसे में लल्लू के सामने बड़ी चुनौती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मुस्लिम बहुल सीट के BJP MLA बोले- मेरे इलाके का 52 फीसदी हिस्सा ‘टोटल पाकिस्तान’ है, मैं बचे 48 फीसदी के वोटों से जीतता हूं
2 UP By-Elections 2019: अखिलेश बोले- 2022 में सरकार बनाएंगे, डिप्टी सीएम का पलटवार- 50 साल इंतजार करना पड़ेगा
3 Delhi: सिग्नल जंप करने पर चालान कटा तो भड़क गया ड्राइवर, परिवार संग सड़क पर बैठा और लगा दिया जाम