ताज़ा खबर
 

हरियाणा: 12वीं के छात्र ने प्रिंसिपल को मारी चार गोलियां, अस्‍पताल ले जाते समय बोलती रही- मुझे बचा लो

शनिवार की दोपहर रितू पर उनके ही स्कूल के कक्षा 12वीं के एक छात्र ने चार गोलियां दाग दी थीं, जिसके बाद उन्हें तुरंत ही अस्पताल ले जाया गया। जब रितू को अस्पताल ले जाया जा रहा था उस वक्त वह होश में थीं और वह बार-बार 'मुझे बचा लो-मुझे बचा लो' कह रही थीं।

Author January 22, 2018 15:24 pm
यमुनानगर स्थित स्वामी विवेकानंद पब्लिक स्कूल की प्रिंसिपल रितू छाबरा

हरियाणा के यमुनानगर स्थित स्वामी विवेकानंद पब्लिक स्कूल की प्रिंसिपल रितू छाबरा को जब अस्पताल ले जाया जा रहा था तब वह बार-बार खुद को बचाने की गुहार लगा रही थीं। शनिवार की दोपहर रितू पर उनके ही स्कूल के कक्षा 12वीं के एक छात्र ने चार गोलियां दाग दी थीं, जिसके बाद उन्हें तुरंत ही अस्पताल ले जाया गया। जब रितू को अस्पताल ले जाया जा रहा था उस वक्त वह होश में थीं और वह बार-बार ‘मुझे बचा लो-मुझे बचा लो’ कह रही थीं। इस बात की जानकारी वहां मौजूद एक व्यक्ति ने दी। हालांकि रितू की जीने की इच्छा के आगे मौत के आगे जीत नहीं सकी। उन्हें डॉक्टर्स बचा नहीं सके। 47 वर्षीय रितू के सीने, पेट और छाती के पास गोलियां लगी थीं। सभी गोलियां बेहद ही नाजुक जगहों पर थीं, इस कारण डॉक्टर्स भी उन्हें बचाने में नाकाम रहे।

रितू छाबड़ा पिछले 19 सालों से स्वामी विवेकानंद स्कूल में थीं। शनिवार की दोपहर जिस वक्त पैरेंट्स टीचर्स मीटिंग चल रही थी, 12वीं कक्षा का एक छात्र आया और उसने प्रिंसिपल पर दानादन चार गोलियां दाग दी। आरोपी छात्र ने अपने पिता की पिस्तौल से इस वारदात को अंजाम दिया था। घटना के तुरंत बाद ही स्कूल में अफरा-तफरी मच गई, हालांकि वहां मौजूद स्टाफ ने आरोपी छात्र को पकड़ लिया था। फिलहाल एक स्थानीय अदालत ने आरोपी को दो दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। बता दें कि आरोपी छात्र कुछ दिन पहले ही 18 साल का हुआ था।

रविवार को रितू छाबड़ा का अंतिम संस्कार कर दिया गया। उनके दो बेटे भी इसी स्कूल से पढ़े थे। छाबड़ा की मौत से उनका पूरा परिवार काफी दुखी है। वहीं आरोपी छात्र का परिवार भी इस वक्त सदमे में है। यमुनानगर पुलिस स्टेशन के सएचओ ओम प्रकाश ने बताया कि जब लड़के से पूछताछ की गई तब उसने बताया कि प्रिंसिपल उसे काफी प्रताड़ित करती थी। उन्होंने कहा, ‘पूछताछ के दौरान लड़के ने स्वीकार कर लिया कि उसने ही यह अपराध किया है… अभी तक जितनी पूछताछ हुई उसमें लड़के ने बताया कि प्रिंसिपल ने उसे चेतावनी दी थी कि उसे रोल नंबर नहीं दिया जाएगा और प्रैक्टिकल एक्जाम्स में भी बैठने नहीं दिया जाएगा, क्योंकि क्लास में उसकी उपस्थिति काफी अनियमित थी।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App