ताज़ा खबर
 

काजीरंगा के गांवों में गए प्रिंस विलियम और केट

ब्रिटेन के शाही दंपति मंगलवार को दो दिवसीय यात्रा पर यहां तेजपुर पहुंचे थे। तेजपुर हवाई अड्डे से 90 मिनट की यात्रा करने के बाद वे काजीरंगा में डिफ्लू रिवर लॉज पहुंचे।

Author काजीरंगा (असम) | April 14, 2016 12:51 AM
बुधवार को असम स्थित काजीरंगा राष्ट्रीय अभयारण्य के वन्यजीव पुनर्वास और संरक्षण केंद्र में गैंडे के बच्चे को दूध पिलातीं डचेज आफ कैम्ब्रिज केट मिडिलटन।

जीप सफारी से काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान का भ्रमण करने के बाद ब्रिटेन के शाही दंपति प्रिंस विलियम और उनकी पत्नी केट मिडिलटन इस प्रसिद्ध उद्यान के आसपास के गांवों, काजीरंगा डिस्कवरी सेंटर और सेंटर फार वाइल्ड लाइफ रिहैबिलिटेशन एडं कंजरवेशन गए। उद्यान के बागोरी रेंज में जीप सफारी के बाद शाही दंपति रोंग टेरांग गांव गए जहां ग्रामीणों ने हाथियों के गलियारे के निर्माण के लिए अपने मकान स्थानांतरित किए हैं।

ड्यूक एवं डचेज ऑफ कैम्ब्रिज ने इंसानों और हाथियों के बीच संघर्ष कम करने के लिए उठाए गए कदमों को जानने में गहरी रुचि ली। केट मिडलटन ने जींस और काली पोल्का शर्ट पहनी थी। गांव में शाही दंपति पहले पारंपरिक प्रार्थना सभागार ‘नामघर’ पहुंचे और अपने जूते उतार कर अंदर दाखिल हुए। उन्होंने झुककर वेदी को नमन किया जहां नामघोषा रखा था। उन्होंने ग्रामीणों और अधिकारियों से बातचीत की। शाही दंपति पनबारी इलाके में सेंटर फोर वाइल्डलाइफ रिहैबिलिटेशन एडं कंजरवेशन भी गए जहां राज्यभर में मानव-हाथी संघर्ष पर डॉक्यूमेंट्री दिखाई गई।

ड्यूक एवं डचेज ऑफ कैम्ब्रिज काजीरंगा डिस्कवरी सेंटर भी गए जहां मार्क शैंड एशियन एलीफेंट लर्निंग सेंटर स्थित है। दोनों को कैप्टिव एलिफेंट क्लीनिक के कामकाज के बारे में बताया गया, जिसने 4883 मामलों का निस्तारण किया है। प्रख्यात यात्रा वृतांत लेखक और संरक्षणवादी शैंड वर्ष 2002 में स्थापित फाउंडेशन ऑफ एलीफेंट फैमिली के सह संस्थापक थे और वह डचेज ऑफ कोर्नवल कैमिला के भाई भी थे।

शाही दंपति ने हाथियों एवं उनके पर्यावास को बचाने की जरूरत के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए कुछ रेखाचित्र बनाए तथा भारत एवं ब्रिटेन तथा दुनिया के नक्शे के साथ फाइबर ग्लास के हाथियों पर हस्ताक्षर किए। उन्होंने सेंटर में स्कूली बच्चों से बातचीत भी की और उनके द्वारा हाथियों पर की गयी पेटिंग की सराहना की। प्रिंस विलियम और केट आदर्श गांव – पनबारी आदर्श गांव गए तथा वहां उन्होंने उद्यान के समीप रह रहे ग्रामीण परिवारों में बारे में जानने के लिए गांव वालों से बातचीत की। यह उद्यान एक सींग वाले गैंडों के लिए प्रसिद्ध है।

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में शाही दंपति के दिन की शुरुआत बागोरी रेंज के अंदर जीप सफारी के साथ हुई। वे डूंंगा और राउमारी वन्य क्षेत्र कैंप गए जो मुख्य रूप से गैंडे और बाघों का बसेरा है। शाही दंपति के साथ चलने वाले एक अधिकारी ने बताया कि दोनों ने गैंडा, हिरण, भैंस और कई अन्य जानवर देखे। ड्यूक एवं डचेज को संरक्षण प्रयासों और शिकारियों के हाथों गैंडों की हत्या में कमी लाने के लिए उठाए गए शिकार विरोधी कदमों के बारे में बताया गया। दोनों ने वनकर्मियों के परिवारों के बारे में पूछा।

ब्रिटेन के शाही दंपति मंगलवार को दो दिवसीय यात्रा पर यहां तेजपुर पहुंचे थे। तेजपुर हवाई अड्डे से 90 मिनट की यात्रा करने के बाद वे काजीरंगा में डिफ्लू रिवर लॉज पहुंचे। यहां पर उन्होंने बिहू और झूमर लोक नृत्य का आनंद उठाया। प्रिसं विलियम और केट मिडिलटन इस लॉज में रात बिताएंगे तथा गुरुवार को प्रात: तेजपुर के रवाना होंगे। वहां से वह गुवाहाटी जाएंगे और फिर उनकी भूटान यात्रा है

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App