ताज़ा खबर
 

स्वामी नरेंद्र नाथ का भड़काउ बयान- हर हिंदू के हाथ में मोबाइल नहीं हथियार होना चाहिए

स्वामी नरेंद्र नाथ ने बच्चे पैदा करने को लेकर शनिवार को धर्म संसद में दिए गए स्वामी गोविंददेव के बयान का भी समर्थन किया।
स्वामी नरेंद्र नाथ।

कर्नाटक के उडुपी में चल रही धर्म संसद के दौरान स्वामी नरेंद्र नाथ ने विवादित बयान दिया है। स्वामी नरेंद्र नाथ ने धर्म संसद के मंच से हिंदुओं से मोबाइल दूर रखकर हथियार उठाने की अपील की है। स्वामी नरेंद्र नाथ ने इस दौरान कहा कि आपको लाखों रुपये की कीमत के मोबाइल रखने की क्या जरूरत है? हर हिंदू के पास मोबाइल की जगह हथियार होने चाहिए। इतना ही नहीं उन्होंने हथियार रखने की इस अपील को सुरक्षा और आत्मरक्षा से जोड़ दिया। स्वामी नरेंद्र नाथ ने कहा कि जिस वक्त हिंदू मंदिरों पर हमले हो रहे हों और पूजा स्थलों को नष्ट किया जा रहा हो, यहां तक कि संसद को निशाना बनाया जा रहा हो, ऐसे में हर किसी के पास आत्मरक्षा के लिए हथियार होने चाहिए। स्वामी नरेंद्र नाथ ने धर्म संसद के मंच से ये भी कहा कि हिंदू समुदाय को बेहद खतरा है। उन्होंने कहा कि देश के मंदिर आतंकियों के निशाने पर हैं। ऐसे में मोबाइल फोन की नहीं, हथियारों की जरूरत है।

स्वामी नरेंद्र नाथ ने बच्चे पैदा करने को लेकर शनिवार को धर्म संसद में दिए गए स्वामी गोविंददेव के बयान का भी समर्थन किया। उन्होंने कहा कि सिर्फ हिंदू ही क्यों 2 बच्चों की पॉलिसी पर अमल करें। नरेंद्र नाथ ने कहा, ‘अगर मुस्लिम और ईसाइयों के 20 बच्चे करते हैं तो हिंदुओं के भी इतने ही बच्चे होने चाहिएं।’

आपको बता दें कि कर्नाटक के उडुपी में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) की ओर से आयोजित तीन दिवसीय धर्म संसद चल रही है। इस धर्म संसद का रविवार को आखिरी दिन है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    MANSOOR LALAM
    Nov 27, 2017 at 10:15 am
    सर्कार इनको जेल में कब डालेगी... अगर नहीं डालती तो समझो के लोकतंत्र पर इसने तमाचा मारा है. ऐसे लोगों को रोड पर फँसी देकर देश में आग उगलते कुछ बदमाशों पर काबू पाया जा सकता है.
    (0)(0)
    Reply
    1. Romraj Sharma
      Nov 26, 2017 at 11:17 pm
      इतिहास के किसी कालखंड में हथियार प्रत्येक हिन्दुके साथ होना चाइये था . परन्तु अब तो हथियार नहीं ज्ञानका युग है . हम अपनी शास्त्रों की अपार ज्ञानको युगानुकूल प्रचारप्रसार कर हथियार से करने वाले कामको ज्ञान के द्वारा परास्त करने की तागत रखते हैं स्वामी जी .सिर्फ एकता और इस्तेमाल की ज़रूरत है ..
      (0)(0)
      Reply