ताज़ा खबर
 

प्रशांत किशोर बोले- प्रियंका गांधी के पास जादू की छड़ी नहीं, लोकसभा चुनाव में नहीं दिखेगा असर

जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने कहा है कि कांग्रेस की नई महासचिव प्रियंका गांधी की अभी शुरुआत है। उनके पास कोई जादू की छड़ी नहीं है कि वो इतने कम समय में पार्टी का कायापलट कर दें।

प्रशांत किशोर फोटो सोर्स- ट्विटर/ANI

प्रियंका गांधी की औपचारिक रूप से राजनीति में एंट्री के बाद सोमवार को उनका पहला उत्तर प्रदेश का दौरा शुरू हो गया। इसके मद्देनजर जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने कहा है कि कांग्रेस की नई महासचिव प्रियंका गांधी की अभी शुरुआत है। उनके पास कोई जादू की छड़ी नहीं है कि वो इतने कम समय में पार्टी का कायापलट कर दें। साथ ही प्रशांत ने कहा कि अगर लंबे समय के नजरिए से आप देखेंगे तो वो एक बड़ा चेहरा और नाम हैं। हालांकि उन्होंने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर प्रियंका की एंट्री को लेकर यह भी कहा कि इतने कम समय में बहुत व्यापक असर डालना संभव नहीं है।

बता दें कि बीजेपी की सहयोगी पार्टी जदयू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर बिहार में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इस दौरान उनसे जब पूछा गया कि प्रियंका गांधी भविष्य में एनडीए के लिए कितनी बड़ी चुनौती साबित होंगी, इस पर जदयू नेता प्रशांत ने कहा, ‘वो अभी शुरुआत कर रहीं हैं, किसी के पास कोई जादू की छड़ी नहीं होती है। इतने कम समय में मैं उनको चुनौती के रूप में नहीं देखता हूं, मैं ऐसा नहीं कह रहा हूं कि उनमें क्षमता है या नहीं, बल्कि इसलिए कह रहा हूं क्योंकि किसी भी व्यक्ति के लिए तुरंत आकर दो-तीन महीने में परिणामों पर बहुत व्यापक असर डालना संभव नहीं है।’ इसके अलावा उन्होंने कहा, ‘हालांकि, अगर लंबे समय के नजरिए से आप देखेंगे तो वे एक बड़ा चेहरा और नाम हैं। काम करेंगी और जनता उनके काम को पसंद करेगी तो उसका असर दिख भी सकता है।’

बता दें कि पूर्वी उत्तर प्रदेश मामलों की प्रभारी और कांग्रेस पार्टी में महासचिव नियुक्त किए जाने के बाद प्रियंका सोमवार से 4 दिन के उत्तर प्रदेश के दौरे पर हैं। गौरतलब है कि जदयू में शामिल होने से पहले चुनावी रणनीतिकार के तौर पर प्रशांत किशोर 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में रणनीति बनाने में कांग्रेस की मदद कर चुके हैं। हाल ही में प्रशांत ने कहा था कि उस समय ‘हम लोगों की सोच थी कि अगर प्रियंका गांधी कांग्रेस के युवा प्रकोष्ठ का नेतृत्व करेंगी तो उससे इस दल को फायदा हो सकता है। किसी कारण से इस सुझाव पर अमल नहीं हो सका।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App