ताज़ा खबर
 

सीएम योगी आदित्यनाथ को प्रसपा-सपा ने दिखाए काले गुब्बारे, पुलिस से भी भिड़ गए कार्यकर्ता

सीएम योगी के कानपुर दौरे पर सपा और प्रसपा के नेताओं ने उन्हें काले गुब्बारे दिखाए। पुलिस के साथ झड़प के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है।

Author कानपुर | Updated: September 16, 2019 3:12 PM
प्रदर्शनकारियों को ले जाती पुलिस (फोटो सोर्स: स्थानीय)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार (16 सितंबर) को लगभग 500 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास करने के लिए कानपुर पहुंचे हैं। इस दौरान कानपुर के सपा और प्रसपा नेता उनको काले झंडे और गुब्बारे दिखा कर उनके आगमन का विरोध किया। बता दें कि पुलिस ने नीरक्षीर चौराहे पर सैकड़ो सपा कार्यकताओं की गिरफ्तारी कर उनके विरोध को रोका। इसके बाद पुलिस सभी कार्यकर्ताओं को पुलिस लाइन ले कर गई है। पुलिस प्रशासन द्वारा विरोध करने वाले नेताओ को नजरबंद कर देने की बात भी सामने आ रही है।

बिजली के बढ़े दामों और नए ट्रफिक नियमों का कर रहे थे विरोधः मुख्यमंत्री योगी शास्त्री नगर स्थित सेंट्रल पार्क से शहरवासियों को लगभग 500 करोड़ रुपए की लागत की योजनाओं का शिलान्यास करने के लिए वहां पहुंचे थे। तभी प्रसपा के प्रदेश सचिव आशीष चौबे कार्यकर्ताओं के साथ काले गुब्बारे लेकर विरोध करने लगे। वे मुख्यमंत्री को बढ़े हुए बिजली के दामों और नए ट्रफिक नियमों में संसोधन करने को लेकर ज्ञापन देने के लिए गए थे।

National Hindi News, 16 September 2019 Top Updates LIVE: दिन भर की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

फतेह बहादुर सिंह और अन्य कार्यकर्ताओं को किया नजरबंदः विरोध प्रदर्शन कर रहे प्रसपा के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रास्ते पर ही रोक दिया। इस दौरान पुलिस और उनके बीच जमकर झड़प हुई। पुलिस ने सभी को धकेलते हुए घर के अंदर कर दिया। वहीं सपा के पूर्व अल्पसंख्यक मंत्रालय भारत सरकार के सदस्य फतेह बहादुर सिंह को उनके कार्यकर्ताओं के साथ नजरबंद कर दिया गया।

सिंह ने दिया अर्थिक मंदी का हवालाः फतेह बहादुर सिंह के मुताबिक बढ़े हुए दामों की वजह से प्रदेश की जनता परेशान है। अर्थिक मंदी की वजह से लोगो के पास काम नहीं है। इस स्थित में वो बढ़े हुए बिजली के दामों का खर्च कैसे वाहन करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि बिजली रोस्टिंग के नाम पर रोजाना 6 घंटे बिजली की कटौती होती है। इसका असर यहां के व्यापार में भी पड़ रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि शहर जलभराव और टूटी सड़को की समस्या से जूझ रहा है। वहीं पुलों के निर्माण का कार्य भी रूका पड़ा है।

सिंह ने लगाया सरकार पर आरोपः सिंह ने राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि नए ट्राफिक नियमों में इतना बड़ा चालान लगाया गया है कि उसकी भरपाई कर पाना हर किसी के बस की बात नही है। इस पर तत्काल संसोधन किया जाए। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश सरकार आर्थिक मंदी की भरपाई जनता की जेब से करना चाहती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 गाजियाबाद मेयर का ऐलान- डॉगी पालना है तो 5 हजार रुपए का लाइसेंस लो, पार्क में गंदगी करने पर भी जुर्माना
2 उत्तर प्रदेश: यमुना में डूब रहा था साथी, बचाने के लिए कूद गए 6 युवक, 7 में से सिर्फ एक को ही निकाल पाए लोग
3 मेट्रो ट्रैक पर उतरकर चलने लगा मुसाफिर, ड्राइवर को लगाने पड़े ब्रेक, कई घंटे तक फंसी रहीं ट्रेनें