ताज़ा खबर
 

PM Garib Kalyan Yojana: प्राइवेट अस्पतालों के डॉक्टरों और Covid-19 का इलाज कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों को 50 लाख रु के बीमा का फायदा

योजना का लाभ उन निजी अस्पतालों के डॉक्टरों, नर्सों, पारा मेडिकल कर्मचारी एवं उन कर्मियों को मिलेगा, जिनकी असामयिक मृत्यु कोबिड मरीजों के उपचार के दौरान होगी।

ayurveda, coronavirus, coronavirus cure, coronavirus india, coronavirus medicine, covid-19, sc, supreme courtडॉक्टर पर COVID-19 के इलाज का दावा करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने 10,000 रुपये का जुर्माना लगाया है।(प्रतीकात्मत तस्वीर)

Pradhan Mantri Garib Kalyan Yojana: प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत 50 लाख रूपये बीमा का लाभ निजी क्षेत्र में काम कर रहे डॉक्टरों और कोविड मरीजों का उपचार कर रहे अन्य स्वास्थ्यकर्मियों को भी मिलेगा। यह जानकारी बुधवार को स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने दी है। उन्होंने बताया कि इस योजना का लाभ उन निजी अस्पतालों के डॉक्टरों, नर्सों, पारा मेडिकल कर्मचारी एवं उन कर्मियों को मिलेगा, जिनकी असामयिक मृत्यु कोविड मरीजों के उपचार के दौरान होगी। मगर इसका लाभ जिला प्रशासन के चिह्नित प्राइवेट अस्पतालों को ही मिलेगा। अभी जिला प्रशासन द्वारा सूबे में 120 प्राइवेट अस्पताल चिह्नित किए गए हैं।

उन्होंने कहा कि कोरोना काल में भारत सरकार की इस महत्वाकांक्षी बीमा योजना से प्राइवेट सेक्टर में कार्यरत चिकित्साकर्मियों का आत्मविश्वास भी बढ़ेगा और कोरोना के खिलाफ संघर्ष में उनका मनोबल ऊंचा होगा। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि कोविड विजेताओं द्वारा प्लाज्मा दान को ज्यादा से ज्यादा प्रोत्साहित करने के लिए प्रति प्लाजमादाता प्रोत्साहन राशि देने हेतु मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने निर्देश दिया है।

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा इसकी प्रक्रिया पूरी कर सरकार को भेजी जा रही है। जिसकी कैबिनेट स्तर पर शीघ्र मंजूरी मिल जाने की उम्मीद है। इससे उनका उत्सावर्द्धन होगा और प्लाज्मा देने वालों की संख्या बढ़ने के अलावे जरूरतमंद मरीजों को इसका लाभ भी मिलेगा।

उन्होंने बताया कि शीघ्र ही पटना के जयप्रभा अस्पताल और भागलपुर के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल काॅलेज एवं अस्पताल में प्लाज्मा लेने का काम शुरू हो जाएगा। इसके लिए दोनों संस्थानों में ‘एपरहेसिस’ मशीन लगाई जा रही है।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि अब कोरोना की प्रखंड स्तर पर भी अस्पतालों में निःशुल्क जांच की व्यवस्था की गई है। साथ ही जिलों में स्वास्थ्य विभाग ने एक टाॅल फ्री नंबर भी जारी किया है। जिस पर इस संबंध में किसी भी तरह की जानकारी आम लोग ले सकते हैं और दे सकते हैं। ताकि फौरन कार्रवाई की जा सके।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अब्दुल्ला परिवार ने सचिन की कराई कांग्रेस में सुलह, जानें वो वजहें- कांग्रेस क्यों पड़ी पायलट के सामने नरम?
2 नीतीश को सुबह करना था पुल का उद्घाटन, रात में ही बह गई अप्रोच रोड, पूर्व सांसद बोले- जांच हो तो बेनकाब हो जाएंगे लुटेरे
3 स्ट्रीट वेंडर्स को 20 हजार का कर्ज देगी केजरीवाल सरकार, स्कूल खोलने पर अभिभावक एकमत नहीं, जानें- दिल्ली में अनलॉक 3.0 से जुड़ी अपडेट्स
ये पढ़ा क्या?
X