प्रयागराज: अखाड़ा परिषद के पूर्व अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की आत्महत्या मामले के आरोपियों का ‘पॉलीग्राफ टेस्ट’ होगा; CBI ने कोर्ट से मांगी अनुमति

नरेंद्र गिरि ने 20 सितंबर को श्रीमठ बाघंबरी गद्दी में अपने कमरे में कथित तौर पर पंखे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। गिरि ने तीनों आरोपियों के कथित तौर पर उकसाने पर यह कदम उठाया था।

महंत नरेंद्र गिरि। फाइल फोटो।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और मठ बाघंबरी गद्दी के महंत नरेंद्र गिरि के निधन की जांच कर रही सीबीआई का कहना है कि मामले की गहराई से जांच करने के लिए आरोपियों की ‘पॉलीग्राफ टेस्ट’ कराए जाने की जरूरत है। नरेंद्र गिरि के निधन के बाद बाघंबरी गद्दी के नए महंत के रूप में हाल ही में महंत बलवीर गिरि का पट्टाभिषेक किया गया था। उसी दिन नरेंद्र गिरि का षोडसी भी संपन्न हुआ था। इस बीच अखाड़ा परिषद के साधु-संतों का कहना है कि नरेंद्र गिरि के निधन के लिए दोषी लोगों के खिलाफ जांच के काम में तेजी लाई जाए।

केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) की अदालत से अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रहे महंत नरेंद्र गिरी की कथित आत्महत्या मामले में तीन मुख्य आरोपियों आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और संदीप तिवारी का ‘पॉलीग्राफ टेस्ट’ कराने की अनुमति मांगी है। जिला शासकीय अधिवक्ता (फौजदारी) गुलाब चंद्र अग्रहरि ने पीटीआई-भाषा को बताया कि नरेंद्र गिरि की मृत्यु के मामले की जांच कर रही सीबीआई ने तीन मुख्य आरोपियों की पॉलीग्राफ टेस्ट कराने की अनुमति संबंधी अर्जी 11 अक्टूबर को सीजेएम की अदालत में दाखिल की।

उन्होंने बताया कि इन आरोपियों के वकीलों ने अदालत से 18 अक्टूबर तक का समय मांगा है। इस मामले में अगली सुनवाई 18 अक्टूबर को होगी। ये तीनों आरोपी वर्तमान में न्यायिक हिरासत में हैं और नैनी जेल में निरुद्ध हैं। अग्रहरि ने बताया कि सीबीआई ने अदालत में दाखिल अर्जी में बताया है कि इन आरोपियों ने पुलिस हिरासत में सही तथ्यों की जानकारी नहीं दी और नरेंद्र गिरि की आत्महत्या से संबंधित कई चीजें छिपाईं हैं।

अर्जी के मुताबिक, “महंत नरेंद्र गिरि की मृत्यु के पीछे की सच्चाई उजागर करने के लिए इन तीन आरोपियों से वैज्ञानिक पद्धति से पूछताछ आवश्यक है जिससे इनके बयानों की सत्यता निर्धारित हो सके।”

अर्जी में कहा गया है कि अदालत से आरोपियों की पॉलीग्राफ टेस्ट की अनुमति मिलने के बाद नयी दिल्ली स्थित केन्द्रीय फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला के विशेषज्ञों से नैनी जेल आकर ही यह जांच करने का अनुरोध किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि नरेंद्र गिरि ने 20 सितंबर को श्रीमठ बाघंबरी गद्दी में अपने कमरे में कथित तौर पर पंखे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। गिरि ने इन तीनों आरोपियों के कथित तौर पर उकसाने पर यह कदम उठाया था।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट