ताज़ा खबर
 

पुलिसवाले ने वर्दी में सीएम योगी आदित्‍यनाथ के पैरों में टेका मत्‍था

खाकी वर्दी पहने हुए एक पुलिस अधिकारी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आशीर्वाद लिया तो लोगों की आलोचनाओं से घिर गया। मामला शुक्रवार (27 जनवरी) का है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सीएम योगी आदित्यनाथ परमपरानुसार हर वर्ष की तरह इस बार भी गुरुपूर्णिमा के पावन पर्व पर गोरखपुर के गोरक्षधाम मठ में अपने गुरु और शिष्यों से मिलने पहुंचे थे।

योगी को गुरु मान पुलिस अधिकारी ने वर्दी में लिया आशीर्वाद। (फोटो सोर्स- facebook/Praveen Kumar Singh)

खाकी वर्दी पहने हुए एक पुलिस अधिकारी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आशीर्वाद लिया तो लोगों की आलोचनाओं से घिर गया। मामला शुक्रवार (27 जनवरी) का है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सीएम योगी आदित्यनाथ परमपरानुसार हर वर्ष की तरह इस बार भी गुरुपूर्णिमा के पावन पर्व पर गोरखपुर के गोरक्षधाम मठ में अपने गुरु और शिष्यों से मिलने पहुंचे थे। यूपी के सीएम होते हुए भी योगी आदित्यनाथ गोरक्षपीठाधीश्वर महंत बने हुए हैं और मठ की परंपराओं को निभाने का कोई भी मौका नहीं छोड़ते हैं। मठ में जब योगी के शिष्यों ने  उनका आशीर्वाद लिया तो गोरखनाथ के पुलिस क्षेत्राधिकारी (सीओ) प्रवीण सिंह भी शिष्यों की कतार में लग गए। स्थानीय मीडिया के अनुसार बारी आने पर पुलिस अधिकारी ने सीएम योगी की चरण वंदना की और आशीर्वाद लिया। सीएम योगी ने भी पुलिस अधिकारी के माथे पर तिलक लगाया और आशीर्वाद दिया।

वर्दी में सीओ के द्वारा इस तरह गुरु भक्ति दिखाए जाने से आलोचना होने लगी। कुछ लोगों का कहना है कि पुलिस अधिकारी ने कानून का मजाक बनाया है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक सीओ प्रवीण सिंह ने इस घटना को व्यक्तिगत करार दिया है और कहा कि वह एक शिष्य की हैसियत से अपने गुरु का आशीर्वाद लेने गए थे। प्रवीण सिंह ने स्थानीय मीडिया से बात करते हुए सीएम योगी की तारीफ में जमकर कसीदे पढ़े। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रवीण सिंह मूल रुप से जौनपुर जिले के मड़िआहूं के रहने वाले हैं और 2015 बैच के पीपीएस अधिकारी है। प्रवीण सिंह के ही नाम से बने फेसबुक अकाउंट से सीओ की तस्वीरें साझा की गई हैं।

सीओ ने मीडिया को बताया कि करीब साल भर पहले उनकी तैनाती गोरखनाथ सर्किल में हुई थी और तब से वह योगी आदित्यनाथ से खासे प्रेरित हैं और उन्हें अपना गुरु भी मानते हैं। पुलिस अधिकारी के मुताबिक गुरुपूर्णिमा के अवसर पर अपने गुरु को मौके पर पाकर आशीर्वाद लेने पहुंच गए। उन्होंने कहा कि इस मामले को किसी और नजर से न देखा जाए, वह एक पुलिस अधिकारी नहीं, बल्कि आम आदमी की तरह अपने गुरु से आशीर्वाद लेने गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App