ताज़ा खबर
 

पूर्वोत्तर में पीएम नरेंद्र मोदी की हुंकार- बोले, त्रिपुरा को ‘माणिक’ नहीं HIRA चाहिए

पीएम मोदी ने कहा कि त्रिपुरा में खर्च होने वाला 100 में से 80 रुपया केन्द्र से मिलता है। उन्होंने कहा कि केन्द्र से मिला पैसा लोगों के कल्याण में खर्च होना चाहिए, ना कि लाल झंडा फहराने में। प्रधानमंत्री ने कहा कि त्रिपुरा के लिए उनका एजेंडा थ्री-टी का है। इसका मतलब है ट्रेड, टूरिज्म और युवाओं को ट्रेनिंग।

8 फरवरी को त्रिपुरा के सोनमुरा में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने त्रिपुरा से चुनावी रैली की शुरुआत की और राज्य 25 साल पुरानी सीपीएम सरकार पर हमला किया। गुरुवार (8 फरवरी) को एक त्रिपुरा के सोनमुरा में एक रैली पीएम ने कहा कि लेफ्ट सरकार 25 साल के शासन काल में त्रिपुरा पिछड़ गया है। उन्होंने बेरोजगारी और रोज वैली स्कैम को लेकर राज्य सरकार पर सवाल उठाया। अगरतला से 86 किलोमीटर दूर अपनी रैली में पीएम ने कहा कि 18 फरवरी को राज्य में होने वाला चुनाव बीजेपी नहीं लड़ रही है, बल्कि ये चुनाव राज्य 8 लाख बेरोजगार युवा और 7वें वेतन आयोग से दूर रहने वाले सरकारी कर्मचारी लड़ रहे हैं। पीएम ने कहा, “त्रिपुरा के सरकारी कर्मचारी अभी भी चौथे वेतन आयोग के मुताबिक तनख्वाह पाते हैं, जबकि देश भर में सातवां वेतन आयोग लागू हो गया है, वाम सरकार ने कर्मचारियों के अधिकारों को हड़प लिया है। पीएम मोदी ने अपनी रैली में ‘चोलो पलटई’ (आओ बदलें) का नारा दिया।

पीएम मे त्रिपुरा के मतदाताओं से बीजेपी को वोट देने की मांग करते हुए राज्य की माणिक सरकार पर हमला किया। पीएम ने कहा कि अब यहां के लोगों को ‘माणिक’ नहीं बल्कि ‘HIRA’ चाहिए। HIRA का मतलब समझाते हुए पीएम ने कहा कि इसका मतलब है H- से हाई वे, I-से आई वे, R-रोड वे, A- से एयर वे। पीएम मोदी ने कहा कि त्रिपुरा में खर्च होने वाला 100 में से 80 रुपया केन्द्र से मिलता है। उन्होंने कहा कि केन्द्र से मिला पैसा लोगों के कल्याण में खर्च होना चाहिए, ना कि लाल झंडा फहराने में। प्रधानमंत्री ने कहा कि त्रिपुरा के लिए उनका एजेंडा थ्री-टी का है। इसका मतलब है ट्रेड, टूरिज्म और युवाओं को ट्रेनिंग। त्रिपुरा में बीजेपी इस बार वाम सरकार को कड़ी टक्कर देने की कोशिश कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App