ताज़ा खबर
 

थाने के बाहर धरने पर बैठ गए पीएम नरेंद्र मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी, यह थी मांग

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी मंगलवार (14 मई) को करीब 4 घंटे तक पुलिस थाने के सामने धरने पर बैठे रहे। बताया जा रहा है कि अजमेर से जयपुर की ओर जाते वक्त उन्हें पुलिस एस्कॉर्ट नहीं दी गई तो वह नाराज हो गए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी। फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी मंगलवार (14 मई) को करीब 4 घंटे तक पुलिस थाने के सामने धरने पर बैठे रहे। बताया जा रहा है कि यह मामला जयपुर का है। प्रह्लाद मोदी सड़क मार्ग से अहमदाबाद से हरिद्वार जा रहे थे। अजमेर से जयपुर की ओर जाते वक्त उन्हें पुलिस एस्कॉर्ट नहीं दी गई तो वह नाराज हो गए। करीब 4 घंटे बाद उन्हें पुलिस एस्कॉर्ट मिली, जिसके बाद वह गंतव्य के लिए रवाना हुए।

यह है मामला : पीएम मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी अहमदाबाद से हरिद्वार जा रहे थे। अजमेर से जयपुर जाते वक्त उन्होंने पुलिस एस्कॉर्ट की मांग की, जिसके लिए इनकार कर दिया गया। ऐसे में वह नाराज हो गए और जयपुर-अजमेर हाइवे स्थित बगरू पुलिस थाने के सामने धरने पर बैठ गए। करीब 4 घंटे बाद यह मामला सुलझा।

National Hindi News, 15 May 2019 LIVE Updates: पढ़ें आज की बड़ी खबरें

पुलिस कमिश्नर बोले- एस्कॉर्ट के पात्र नहीं हैं प्रह्लाद मोदी: जयपुर के पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव के मुताबिक, पीएम मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी सड़क मार्ग से जयपुर आ रहे थे। वह अहमदाबाद से हरिद्वार के लिए निकले थे। उन्होंने पुलिस एस्कॉर्ट की मांग की थी, लेकिन वह उसके पात्र नहीं हैं।

यह था आदेश : पुलिस कमिश्नर के मुताबिक, हमारे पास प्रह्लाद मोदी को 2 पीएसओ उपलब्ध कराने का आदेश था, जो बगरू थाने में पहले से मौजूद थे। इन पुलिसकर्मियों को प्रह्लाद मोदी के साथ जाना था, लेकिन वह उन्हें अपनी गाड़ी में ले जाने के लिए तैयार नहीं हुए। वह अलग पुलिस वाहन की मांग कर रहे थे।

4 घंटे बाद सुलझा मामला : बताया जा रहा है कि मामला हाईप्रोफाइल होने की वजह से अफसरों के निर्देश पर प्रह्लाद मोदी को एस्कॉर्ट मुहैया करा दी गई। हालांकि, यह पूरा मामला करीब 4 घंटे तक जारी रहा और प्रह्लाद मोदी रात करीब 9 बजे हरिद्वार के लिए रवाना हुए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App