ताज़ा खबर
 

यूपीए पर बरसे पीएम नरेंद्र मोदी, बोले-एनपीए कांग्रेस सरकार का सबसे बड़ा घोटाला

पीएम ने कहा कि पहले की सरकार में बैठे लोग जानते थे, बैंक भी जानते थे, उद्योग जगत भी जानता था, बाजार से जुड़ी संस्थाएं भी जानती थीं कि गलत हो रहा है।

Author नई दिल्ली | December 14, 2017 7:59 AM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को दिल्ली में फिक्की की सालाना आम सभा को संबोधित किया। कार्यक्रम में पीएम यूपीए सरकार और फिक्की पर जमकर बरसे। पीएम ने कहा, जब सरकार में बैठे कुछ लोगों द्वारा बैंकों पर दबाव डालकर कुछ विशेष उद्योगपतियों को लोन दिलवाया जा रहा था, जब फिक्की जैसी संस्थाएं क्या कर रही थीं। पीएम ने कहा, ये आजकल एनपीए का जो हल्ला मच रहा है, वो पहले की सरकार में बैठे अर्थशास्त्रियों की इस सरकार को दी गई सबसे बड़ी लायबिलिटी है। पीएम ने कहा कि उस दौरान कुछ बड़े उद्योगपतियों को लाखों- करोड़ों का लोन दिया गया, बैंक पर दबाव डालकर पैसा दिलवाया गया। पीएम ने कहा कि पहले की सरकार में बैठे लोग जानते थे, बैंक भी जानते थे, उद्योग जगत भी जानता था, बाजार से जुड़ी संस्थाएं भी जानती थीं कि गलत हो रहा है।

यूपीए सरकार पर तंज कसते हुए पीएम ने कहा कि ये एनपीए सरकार का सबसे बड़ा घोटाला था। कॉमनवेल्थ, 2जी या कोयला, सभी से कहीं ज्यादा बड़ा घोटाला है। पीएम ने यह भी कहा कि जो लोग मौन रहकर सब कुछ देखते रहे, क्या उन्हें जगाने की कोशिश किसी संस्था द्वारा की गई। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि एफआरडीआई को लेकर अफवाहें फैलाई जा रही हैं। सरकार ग्राहकों के हितों की रक्षा करने पर काम कर रही है, लेकिन जो अफवाहें फैलाई जा रही हैं, वह एक दम उलट हैं। उन्होंने कहा कि एेसी अफवाहों का खंडन करने में फिक्की जैसे संस्थाओं का अहम रोल है।

कार्यक्रम में पीएम ने कहा कि हमारे यहां एक एेसा सिस्टम बना, जिसमें गरीब हमेशा इस सिस्टम से लड़ रहा था। छोटी-छोटी चीजों के लिए उसे संघर्ष करना पड़ रहा था। अपनी ही पेंशन, स्कॉलरशिप पाने के लिए यहां-वहां कमिशन देना होता था। पीएम ने कहा कि हमारी सरकार एेसे सिस्टम को खत्म करने में लगी है। हम एेसा सिस्टम बनाना चाह रहे हैं जो न सिर्फ पारदर्शी हो बल्कि लोगों की जरूरत को भी समझे। पीएम ने कहा, आपने देखा होगा कि सरकार हमेशा युवाओं को ध्यान में रखते हुए फैसले ले रही है।

देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App