ताज़ा खबर
 

PM मोदी व जिनपिंग की मुलाकात पर कांग्रेस का तंज, कहा- दिखाएं 56 इंच का सीना और पूछें डोकलाम से कब हटेगा चीन

कांग्रेस ने भारत के दौरे पर आए चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच बातचीत में डोकलाम पर भी चर्चा करने की सलाह दी है। पार्टी प्रवक्ता ने कहा कि सरकार चीन से पूछे कि वह डोकलाम से कब हटेगा।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिबल (फोटो सोर्स -इंडियन एक्सप्रेस)

भारत के दौरे पर आए चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच बातचीत से पहले कांग्रेस ने शुक्रवार को सलाह दी कि मोदी चीन के साथ बातचीत के दौरान 56 इंच का सीना दिखाते हुए उनकी आंखों में आंख डालकर पूछें कि वह डोकलाम से कब हट रहा है? नई दिल्ली में पार्टी प्रवक्ता ने भी संवाददाताओं से बातचीत करते हुए सरकार से कहा कि वह चीन से इन दोनों विवादित मुद्दों पर साफ-साफ बात कर ले।

वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने ट्वीट किया : कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने ट्वीट किया और कहा, “शी जिनपिंग अनुच्छेद 370 पर इमरान खान का समर्थन करते हैं, ऐसे में पीएम मोदी उनकी आंखों में आंखें डालकर कहें कि पीओके में कब्जे वाली 5000 किमी की हमारी भूमि खाली करो, भारत में 5जी के लिए आपकी कंपनी हुवेई की कोई जरूरत नहीं है।” उन्होंने कहा कि चीन के साथ बातचीत में पीएम मोदी को इन मुद्दों पर खुलकर और पूरी तैयाराी के साथ बातचीत करनी चाहिए।

National Hindi News, 12 October 2019 Top Headlines Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

पार्टी प्रवक्ता ने कहा, भारत स्पष्ट तौर पर पूछे : पार्टी प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने मीडिया से कहा कि “पीएम मोदी जिनपिंग से बंद कमरे वाली बातचीत में उनको यह स्पष्ट तौर पर बता दें कि कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है, इस पर हमें आपकी सलाह नहीं चाहिए। हम खुद इससे निपटेंगे। आप केवल यह बताओ कि डोकलाम से कब जा रहे हो। हमारी सीमा के करीब हैलीपेड क्यों बना लिया?”

दोनों देशों के संबंध में सुधार की उम्मीद : दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले दो बड़े पड़ोसी चीन और भारत के शीर्ष नेताओं की बातचीत से पहले कांग्रेस ने कश्मीर और डोकलाम मुद्दे पर चीन के साथ बातचीत में चर्चा करने की मांग की है। गौरतलब है कि दोनों मुद्दों पर चीन और भारत के बीच मतभेद रहे हैं। इनको लेकर दोनों देशों के रवैए में तनाव आते रहे हैं। फिलहाल भारत-चीन के बीच संबंधों में सुधार से दोनों देशों के विकास और दक्षिण एशिया में तनाव को कम करने में मदद मिलेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 MP: नगर निगम के रिटायर्ड अधिकारी की लाखों रुपए की बेनामी संपत्ति जब्त, लोकायुक्त के छापों से सामने आई थी काली कमाई
2 चुनावी रैली में छलका आजम खान का दर्द, भावुक होते हुए कहा- आखिर मेरी खता क्या है
3 Haryana Elections 2019: सीएम योगी बोले- कांग्रेस की हालत बिना ड्राइवर की ट्रेन और बिना पायलट के विमान जैसी
ये पढ़ा क्या?
X