scorecardresearch

चेन्‍नई में पीएम मोदी ने तमिल को बताया शाश्वत, हम इसे लोकप्रिय बनाने के लिए प्रतिबद्ध, स्‍टालिन का पलटवार- तो इसे भी हिंदी की तरह आधिकारिक भाषा बना दो  

स्टालिन ने पीएम से आग्रह किया कि राज्य को NEET से छूट दें, GST का बकाया जारी कराएं और श्रीलंका से कच्चातीवु द्वीप को दोबारा दिलाएं। उन्होंने प्रधानमंत्री से मांगों पर जल्द से जल्द विचार करने का भी आग्रह किया।

Tamilnadu, Tamil Language
चेन्नई के नेहरू स्टेडियम में पीएम मोदी का स्वागत करते तमिलनाडु के मुख्यमंत्री और डीएमके नेता स्टालिन। (फोटो- पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि “सरकार तमिल भाषा और संस्कृति को लोकप्रिय बनाने के लिए प्रतिबद्ध है।” गुरुवार को एक कार्यक्रम में चेन्नई पहुंचे पीए मोदी ने कहा- “मेरे निर्वाचन क्षेत्र के बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में तमिल अध्ययन विभाग मेरे लिए काफी खास है। भारत की राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 भारतीय भाषाओं को बढ़ावा देने के लिए विशेष महत्व देती है।”

31,500 करोड़ रुपये से अधिक की 11 परियोजनाओं की आधारशिला रखते हुए, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने चेन्नई के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में तमिल संस्कृति और भाषा की प्रशंसा की। विकास परियोजनाओं के लिए प्रधानमंत्री का अभिवादन करते हुए, तमिलनाडु के सीएम स्टालिन ने उच्च न्यायालय और केंद्र सरकार के कार्यालयों में तमिल को हिंदी की तरह आधिकारिक भाषा बनाने की मांग की। उन्होंने पीएम से आग्रह किया कि राज्य को NEET से छूट दें, GST का बकाया जारी कराएं और श्रीलंका से कच्चातीवु द्वीप को दोबारा दिलाएं। उन्होंने प्रधानमंत्री से मांगों पर जल्द से जल्द विचार करने का भी आग्रह किया।

मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने कहा कि तमिलनाडु समावेशी विकास, समानता और महिला सशक्तिकरण के लिए एक राज्य था और इसे “द्रविड़ मॉडल” कहा। अपनी यात्रा के दौरान पीएम मोदी ने एक रैली को भी संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने श्रीलंका पर भी अपनी बात रखी। कहा कि ‘भारत ने अंतरराष्ट्रीय मंचों पर श्रीलंका के लिए मजबूती से बात की है। दुनिया भर में कई भारतीय संगठनों और व्यक्तियों ने श्रीलंका को सहायता प्रदान की। भारत श्रीलंका का समर्थन करना जारी रखेगा।’

तमिलनाडु के सीएम एमके स्टालिन ने पीएम का अभिवादन करते हुए कहा, “लोगों के समर्थन से डीएमके की सरकार बनने के बाद, यह पहली बार है जब पीएम मोदी राज्य का दौरा कर रहे हैं। मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करता हूं, जो यहां कई परियोजनाओं का उद्घाटन करने आए हैं।”

पीएम मोदी ने कहा, “इतिहास ने हमें सिखाया है कि जिन राष्ट्रों ने बुनियादी ढांचे को सबसे अधिक महत्व दिया, वे विकासशील से विकसित राष्ट्र में बदल गए। भारत इस पर फोकस कर रहा है। जब मैं बुनियादी ढांचे की बात करता हूं, तो मेरा मतलब सामाजिक बुनियादी ढांचे को उन्नत करना है। हमारी सरकार प्रमुख योजनाओं को कवर करने के लिए संतृप्ति स्तर हासिल करने के लिए काम कर रही है। हम सभी के लिए पेयजल सुनिश्चित करने पर काम कर रहे हैं। भौतिक बुनियादी ढांचे पर ध्यान देने से युवाओं को सबसे ज्यादा फायदा होगा। हर घर में हाई स्पीड इंटरनेट पहुंचाना हमारा विजन है।”

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट