ताज़ा खबर
 

राष्ट्रीय राजमार्गों को दो लाख किमी तक बढ़ाएंगे: गडकरी

केंद्रीय भूतल परिवहन व जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को कहा कि देश में यातायात व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए केंद्र ने राष्ट्रीय राजमार्गों की लंबाई को 96 हजार से बढ़ाकर दो लाख किलोमीटर करने का फैसला किया है।

लखनऊ | Updated: February 10, 2016 12:25 AM
केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (फाइल फोटो)

केंद्रीय भूतल परिवहन व जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को कहा कि देश में यातायात व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए केंद्र ने राष्ट्रीय राजमार्गों की लंबाई को 96 हजार से बढ़ाकर दो लाख किलोमीटर करने का फैसला किया है। गडकरी दो दिवसीय लखनऊ दौरे पर आए थे। उन्होंने यहां पत्रकारों से कहा कि इस समय देश में 96 हजार किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग और 52 लाख सड़कें हैं।
चालीस फीसद यातायात इन दो फीसद राष्ट्रीय राजमार्गों से गुजरता है। इस वजह से हर साल पांच लाख सड़क दुर्घटनाएं होती हैं। इन दुर्घटनाओं में डेढ़ लाख लोग मरते हैं और तीन लाख घायल होते हैं। इसका मुख्य कारण यातायात में बाधा होना है। इसलिए लोगों की जान बचाने और यातायात सुगम बनाने के लिए केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय राजमार्गों की लंबाई दो लाख किलोमीटर करने का फैसला किया है। देश का करीब 70 से 80 फीसद यातायात इन्हीं राजमार्गों से गुजरता है। उन्होंने कहा कि यातायात के स्वरूप को लेकर एक फार्मूले पर काम किया जा रहा है। उसके मुताबिक चार लेन, छह लेन और एक्सप्रेसवे बनाए जाएंगे।

मंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय राजमार्गों की कुल लंबाई 8483 किलोमीटर है। इसमें से 4500 किलोमीटर हिस्सा भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधीन है। बाकी हिस्सा राज्य के लोक निर्माण विभाग की देखरेख में है। मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि हमने 8483 किलोमीटर मार्ग को 17 हजार किलोमीटर तक बढ़ाने का फैसला किया है। इसके लिए कुछ प्रस्ताव राज्य सरकार से और कुछ सांसदों व विधायकों की तरफ से आए हैं।

गडकरी ने कहा कि प्रदेश में दो नए राष्ट्रीय राजमार्ग बनाए जाएंगे। पहला राजमार्ग पूर्वी-पश्चिमी हाइवे होगा। इस पर 1400 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। इससे दिल्ली से जुड़े यातायात का दबाव 50 फीसद तक कम हो जाएगा। दूसरा राजमार्ग दिल्ली-डासना के बीच बनाया जाएगा, जिसमें 14 मार्ग होंगे। इस राजमार्ग के बन जाने से दिल्ली से मेरठ जाने में सिर्फ 40 मिनट लगेंगे। उन्होंने कहा कि लखनऊ में बनने वाली रिंग रोड के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट दो-तीन महीनों में तैयार हो जाएगी।

लखनऊ-कानपुर के बीच विशेष राजमार्ग की भी योजना है। अगले तीन महीने में 10 परियोजनाएं दिए जाने की संभावना है। इन पर चार हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे। मंत्री ने कहा कि सेतु भारतम के तहत 10 रेलवे ओवरब्रिज बनाए जाने हैं। उन्होंने कहा कि जल यातायात के तहत गंगा नदी में जहाजों के नियंत्रण के लिए भी प्रणाली शुरू की गई है। परिवहन लागत के लिहाज से जल यातायात काफी किफायती है। गंगा में जहाजों के पारगमन की व्यवस्था के लिए तीन हजार करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। इससे उत्तर प्रदेश के विकास में भी मदद मिलेगी।

उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर किए गए सवाल पर उन्होंने कहा कि आप चिंता न करें। प्रदेश में हमारा भविष्य काफी अच्छा है। भाजपा ने 2014 के लोकसभा चुनाव में 80 में से 71 सीटों पर जीत दर्ज की थी। उसकी सहयोगी अपना दल को दो सीटें मिलीं। लेकिन पंचायत व कुछ नगर निगमों के चुनावों में भाजपा का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा।

 

Next Stories
1 महिला की रेप के बाद हत्या, सपा बसपा में मची मदद की होड़
2 धार: नमाज की अनुमति को लेकर हिंदू नाराज, 13 साल में पहली बार मंगलवार को बाहर हुई पूजा
3 दरोगा पर महिला के साथ बलात्कार का आरोप, केस दर्ज
ये पढ़ा क्या?
X