ताज़ा खबर
 

मुजफ्फरपुर में लोगों ने खींची नफरत की दीवार, दो हिस्सों में बांट दी सड़क

मुजफ्फरपुर के कांटी प्रखंड की पानापुर हवेली पंचायत स्थित दामोदरी टोला के लोगों ने आपसी नफरत के चलते एक सार्वजनिक सड़क पर दीवार खींच दी। अब सड़क के एक हिस्से पर शेख समुदाय के लोग चलते हैं और दूसरे पर अंसारी।

प्रतीकात्मक फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस

मुजफ्फरपुर के कांटी प्रखंड की पानापुर हवेली पंचायत स्थित दामोदरी टोला के लोगों ने आपसी नफरत के चलते एक सार्वजनिक सड़क पर दीवार खींच दी। अब सड़क के एक हिस्से पर शेख समुदाय के लोग चलते हैं और दूसरे पर अंसारी। हालात ऐसे हैं कि अब इस सड़क पर कोई गाड़ी तक नहीं जा पा रही है।

70 घरों का यह मुस्लिम टोला
इस्लाम में जाति और ऊंच-नीच के लिए कोई जगह नहीं है। इसी वजह से किसी सूफी ने कहा है कि एक ही सफ (कतार) में खड़े हो गए महमूद व अयाज, न कोई बंदा रहा और न ही कोई बंदा नवाज। हालांकि, दामोदरी टोला के लोग इस्लाम की इस बात को मानने के लिए तैयार नहीं हैं। इस टोले में महज 70 घर हैं, लेकिन नफरत ने इसके दो हिस्से कर दिए हैं।

17 नवंबर को विवाद, 18 को बांट दी सड़क
17 नवंबर को इलाके में रहने वाले बशीर मियां के बेटे की शादी थी। उसके भोज में शेख और अंसारी पक्ष में मारपीट हो गई। मामला नहीं सुलझा तो 18 नवंबर को मोहल्ले की सड़क पर 300 फीट लंबी दीवार खड़ी कर दी गई।

15 साल पहले खुद बनाई थी सड़क
मो. नसीरुद्दीन अंसारी के मुताबिक, यह सरकारी सड़क नहीं है। 15 साल पहले आपस में मन मिला तो सड़क बना ली थी। अब शेख अक्सर हमारे लोगों को नीचा दिखाकर मारपीट करते हैं। ऐसे में सुरक्षा के लिए दीवार बनाई गई है। अब दीवार के उस पार के लोगों से हमारा कोई मतलब नहीं है।

कुछ लोगों ने दिया जातीय रंग
शेख बिरादरी के मो. सलीम ने बताया कि हमारा खुदा एक, नबी एक और कुरान भी एक है। कई दशक तक हमने एक ही दस्तरखान पर खाना खाया, लेकिन कुछ लोगों ने इसे जातीय रंग दे दिया है। 50 परिवारों का रास्ता बंद है। मस्जिद तक जाने वाली इस सड़क को बंद कर दिया गया है।

‘इस्लाम में ऊंच-नीच की कोई जगह नहीं’
काजी-ए-शहर मुफ्ती शमीमुल कादरी ने कहा कि इस्लाम में दिल में नफरत रखना सख्त गुनाह है। इसे माफ नहीं किया जा सकता। नबी-ए-पाक सड़क से कांटे व रोड़े चुनकर हटा देते थे, जिससे किसी को तकलीफ न हो। नफरत फैलाने वालों को अल्लाह का खौफ होना चाहिए।

 

मुजफ्फरपुर के डीएम मोहम्मद सोहेल का कहना है कि यह काफी गंभीर मामला है। इसकी जांच कराई जा रही है। सार्वजनिक सड़क को दीवार से घेरना गलत है। इस मामले को प्राथमिकता के आधार पर देखा जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App