ताज़ा खबर
 

सुरक्षा पर सियासत: राबड़ी ने नीतीश को लिखा ख़त, कहा-मेरे साथ कुछ हुआ तो गृह विभाग होगा जिम्मेदार

अब राबड़ी देवी ने मौजूदा सीएम नीतीश कुमार को ख़त लिख कर कहा है कि सुरक्षाकर्मियों को हटाए जाने के बाद अब अगर उनके या फिर उनके परिवार के सदस्यों के साथ कोई अप्रिय घटना होती है तो इसकी जिम्मेदारी गृह विभाग और गृह विभाग के मंत्री की होगी।
राबड़ी देवी ने कहा, “सुरक्षा रात के 9 बजे ही हटा ली गई। देखिए, सरकार क्या कर रही है? ये मुझे और मेरे परिवार को मरवाने की साजिश है।” (Photo: ANI)

बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों को राज्य सरकार द्वारा वापस लिये जाने के बाद से प्रदेश की सियासत गरमा गई है। अब राबड़ी देवी ने मौजूदा सीएम नीतीश कुमार को ख़त लिख कर कहा है कि सुरक्षाकर्मियों को हटाए जाने के बाद अब अगर उनके या फिर उनके परिवार के सदस्यों के साथ कोई अप्रिय घटना होती है तो इसकी जिम्मेदारी गृह विभाग और गृह विभाग के मंत्री की होगी। इतना ही नहीं, राबड़ी देवी ने तंज कसते हुए अपनी चिट्ठी में राज्य सरकार की इस कार्रवाई के लिए उसे बहुत-बहुत बधाई भी दी है।

आपको बता दें कि पटना में पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी का आवास 10 सर्कुलर रोड के पास स्थित है। आवास की सुरक्षा के लिए यहां बीएमपी के 32 जवान तैनात किए गए थे, लेकिन अब एक आदेश जारी कर बीएमपी-2 के सभी 32 जवानों को सुरक्षा ड्यूटी से हटा लिया गया है। जवानों को पूर्व मुख्यमंत्री के आवास से हटाए जाने के बाद से ही पूरा राजद (राष्ट्रीय जनता दल) कुनबा राज्य सरकार पर हमलावर है।

आपको बता दें कि इससे पहले 10 सर्कुलर रोड से सुरक्षाकर्मियों को हटाए जाने से नाराज पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव ने अपने बॉडीगार्ड को भी रखने से इनकार कर दिया था। पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा है कि मेरी मां श्रीमती राबड़ी देवी जी को पूर्व सीएम की हैसियत से सुरक्षा प्राप्त थी, जबकि मेरे भाई को विधायक के नाते और मुझे नेता प्रतिपक्ष के नाते सुरक्षा मिली थी, लेकिन हम इस सुरक्षा को बिहार के सीएम नीतीश कुमार को वापस सौंप रहे हैं, ताकि वो तुच्छ ईर्ष्यालु कार्य छोड़ कर सकारात्मक कार्यों पर ध्यान दें। वहीं, इस पूरे माामले पर एडीजी (मुख्यालय) एके सिंघल का कहना है कि राबड़ी देवी के सरकारी आवास से सुरक्षा वापस लेने का निर्णय विशेष शाखा की समिति ने लिया है। यह समिति समय-समय पर वीवीआईपी को मिली सुरक्षा की समीक्षा करती रहती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App