ताज़ा खबर
 

राजस्थान यूनिवर्सिटी पेपर लीक मामले में 11 आरोपियों को पुलिस रिमांड पर भेजा

यहां की एक अदालत ने प्रश्नपत्र लीक मामले में कल गिरफ्तार किए गए 11 आरोपियों को आज पूछताछ के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया ।
Author जयपुर | April 18, 2017 15:08 pm

यहां की एक अदालत ने प्रश्नपत्र लीक मामले में कल गिरफ्तार किए गए 11 आरोपियों को आज पूछताछ के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया ।
सरकारी वकील ने अदालत परिसर में संवाददाताओं को बताया कि राजस्थान पुलिस के एसओजी ने राजस्थान विश्वविद्यालय और बीकानेर विश्वविद्यालय की परीक्षाओं के प्रश्नपत्र लीक मामले में राजस्थान विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग के प्रोफेसर जगदीश प्रसाद समेत 11 आरोपियों को गिरफ्तार किया था । एसओजी ने मामले की तह तक जाने के लिए गिरफ्तार आरोपियों का पांच दिन का रिमांड मांगा जिसे अदालत ने मंजूर कर लिया और 23 अप्रैल को गिरफ्तार अभियुक्तों को पुन: अदालत में पेश करने के निर्देश दिए । गौरतलब है कि एसओजी ने राजस्थान विश्वविद्यालय के बीए तृतीय वर्ष के भूगोल द्वितीय प्रश्न पत्र और बीकानेर विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित एम कॉम (अन्तिम वर्ष) परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक होने की घटना का पर्दापाश कर 11 आरोपियों को गिरफ्तार किया था ।

आपको बता दें कि बीते दिन राजस्थान पुलिस के विशेष आपरेशन समूह (एसओजी) ने स्नातक और स्नातकोत्तर पेपर लीक मामले का आज पर्दापाश कर राजस्थान विश्वविद्यालय के प्रोफेसर, एक विभागाध्यक्ष और एक पूर्व प्रोफेसर समेत आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया। एसओजी के अतिरिक्त महानिदेशक उमेश मिश्रा ने संवाददाताओं को बताया कि जिन लोगों पर विश्वविद्यालय की परीक्षा के प्रश्नपत्र बनाने और गोपनीयता की जिम्मेदारी थी वहीं लोग प्रश्नपत्र लीक कर रहे थे।

उन्होंने बताया कि एसओजी ने तीन मुकदमा दर्ज कर राजस्थान विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग के प्रोफेसर जगदीश प्रसाद जाट, विश्वविद्यालय के गोविन्द पारीक, सेवानिवृत्त प्रोफेसर बीएल गुप्ता, हनुमानगढ भादरा में पदस्थ व्याख्याता काली चरण, बीकानेर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर एनएस मोदी, उसके पुत्र निपुण मोदी, जयपुर में एक बुक डिपो का कर्मचारी शरद और एक अन्य शम्भू दयाल को पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया।

मिश्रा ने बताया कि इस मामले में और गिरफ्तारियों से इंकार नहीं किया जा सकता। एसओजी का एक दल बांदीकुई गया हुआ है वहां तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है, संलिप्तता पाये जाये पर अग्रिम कार्यवाही की जायेगी।
उन्होंने बताया कि पेपर सेटर पर गोपनीयता की जिम्मेदारी थी उन लोगों ने ही अपने लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए गोपनीयता भंग की। मामले की जांच की जा रही है और गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ की जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.