ताज़ा खबर
 

ड्रग केस में एक और बीजेपी नेता गिरफ़्तार, समन भेजे जाने पर आने से कर दिया था इनकार

पश्चिम बंगाल पुलिस ने भाजपा नेता राकेश सिंह को मादक पदार्थ जब्ती मामले में संलिप्तता के आरोप में पूर्व बर्दमान जिले से मंगलवार रात को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि शहर के बंदरगाह क्षेत्र में भाजपा के राज्य समिति के सदस्य के घर में प्रवेश करने से रोकने के […]

Pamela Goswami, Rakesh Singh, Rakesh Singh BJP leader bengal, pamela goswami drugs, pamela goswami arrest, bengal news, kolkata news,भाजपा नेता राकेश सिंह को मादक पदार्थ जब्ती मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किया। (express photo)

पश्चिम बंगाल पुलिस ने भाजपा नेता राकेश सिंह को मादक पदार्थ जब्ती मामले में संलिप्तता के आरोप में पूर्व बर्दमान जिले से मंगलवार रात को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि शहर के बंदरगाह क्षेत्र में भाजपा के राज्य समिति के सदस्य के घर में प्रवेश करने से रोकने के आरोप में कोलकाता पुलिस के मादक पदार्थ खंड द्वारा उनके दो बेटों को भी गिरफ्तार किया गया है।

भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजुमो) की राज्य सचिव पामेला गोस्वामी को उनके दोस्त और निजी सुरक्षा गार्ड के साथ 19 फरवरी को दक्षिण कोलकाता के न्यू अलीपुर इलाके से गिरफ्तार किया गया था। उनकी कार से 90 ग्राम कोकीन मिली थी। गोस्वामी ने आरोप लगाया था कि यह सिंह की साजिश है। कोलकाता पुलिस ने सिंह को एक नोटिस दिया जिसमें उनसे मामले के संबंध में कोलकाता पुलिस मुख्यालय में जांचकर्ताओं के सामने उपस्थित होने को कहा गया था। पुलिस द्वारा धारा 160 सीआरपीसी के तहत उन्हें समान भेजा गया था।

इसपर बीजेपी नेता ने कहा था कि वह किसी काम से दिल्ली जा रहे हैं और 26 फरवरी को पुलिस के सामने पेश होंगे। अधिकारी ने कहा कि भाजपा नेता को कोलकाता लाया जा रहा है। उनके दो बेटों को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। शिवम सिंह और सुवम सिंह को कोलकाता पुलिस ने कथित रूप से पुलिस अधिकारियों को उनके कर्तव्यों का निर्वहन करने से रोकने के आरोप में गिरफ्तार किया है। उन्हें लाल बाजार के सेंट्रल लॉकअप में भेज दिया गया है।

इससे पहले राकेश सिंह ने पुलिस के नोटिस को रद्द करने का अनुरोध करते हुए कलकत्ता उच्च न्ययालय में याचिका दी थी। जिसे उच्च न्ययालय ने मंगलवार को खारिज कर कर दिया था। अदालत के आदेश के बाद कोलकाता पुलिस सिंह के आवास के अंदर घुसी। इससे पहले, सिंह के परिवार ने पुलिस को आवास में प्रवेश करने से रोक दिया था।

सिंह के वकीलों ने दलील दी थी कि उनके भाजपा में शामिल होने के बाद से उनके खिलाफ कम से कम 26 मामले दर्ज किये गए हैं। वहीं, पश्चिम बंगाल सरकार राज्य की ओर से पेश हुए महाधिवक्ता किशोर दत्ता ने कहा कि सिंह के इस राजनीतिक दल में शामिल होने से पहले से उनके खिलाफ 56 मामले लंबित हैं और इस विषय का कोई राजनीतिक संबंध नहीं है। न्यायमूर्ति सव्यसाची भट्टाचार्य ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद सिंह की याचिका खारिज कर दी।

Next Stories
1 चाट वाले ‘आइंस्टीन चचा’ को हुई जेल, बोले- साई बाबा का भक्त हूं, 2 साल में एक बार ही कटवाता हूं बाल
2 शिवसेना नेता संजय राउत बोले- लोकतंत्र के लिए नुकसानदेह है कांग्रेस की हार, कहा- पार्टी को करना होगा चिंतन
ये पढ़ा क्या?
X