ताज़ा खबर
 

Palghar Building Collapsed: पालघर में भरभराकर गिरा 4 मंजिला इमारत का बड़ा हिस्सा, 4 साल की बच्ची ने गंवाई जान

बीते कुछ महीनों में अकेले मुंबई में बिल्डिंग, पुल, दीवार आदि गिरने से करीब 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। बीएमसी के तमाम दावों के बावजूद लगभग हर महीने कोई न कोई नया हादसा होता है और सारे दावों की पोल खुल जाती है।

पालघर में बिल्डिंग का हिस्सा गिरा (फोटो- एएनआई)

Mumbai Building Collapsed: महाराष्ट्र में बारिश थमने के बाद भी इमारतें गिरने का सिलसिला जारी है। मुंबई और पुणे में सिलसिलेवार हादसों के बीच पालघर में एक बार फिर ऐसा ही हादसा हुआ है। मंगलवार (15 अक्टूबर) को देर रात एक बिल्डिंग फिर तहस-नहस हो गई। इस हादसे में 4 साल की एक बच्ची की जान चली गई। वहीं कई लोग फंस गए। विरार सिटी के पालघर जिले में हुए इस हादसे के बाद रातभर रेस्क्यू ऑपरेशन चलता रहा। फायर ब्रिगेड और स्थानीय लोगों ने मलबा हटाने में मदद की।

अवैध तौर पर बनी थी इमारतः प्राप्त जानकारी के मुताबिक नित्यानंद धाम नाम की एक चार मंजिला इमारत का कुछ हिस्सा टूटकर नीचे गिर गया था। बताया जा रहा है कि इस बिल्डिंग का निर्माण अवैध तौर पर किया गया था। हादसे के बाद बिल्डिंग को खाली करा लिया गया। वहां रह रहे बाकी लोगों से भी तुरंत घर छोड़ने के लिए कहा गया। अधिकारियों का कहना है कि सभी फंसे हुए लोगों को निकाल लिया गया है।

कई दर्जन की मौत हो चुकी: मलबा हटाने का काम अभी भी जारी है। बता दें कि इस साल भारी बारिश के चलते मुंबई में इस तरह के अलग-अलग हादसों में कुल दो दर्जन से ज्यादा लोगों की जान चली गई। कमोबेश यही हाल पुणे का भी रहा। पुणे एक दीवार गिरने से बिहार के रहने वाले 15 मजदूरों की दबकर मौत हो गई थी।

जान हथेली पर रख रह रहे लोगः बीते कुछ महीनों में अकेले मुंबई में बिल्डिंग, पुल, दीवार आदि गिरने से करीब 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। बीएमसी के तमाम दावों के बावजूद लगभग हर महीने कोई न कोई नया हादसा होता है और सारे दावों की पोल खुल जाती है। शहर में कई ऐसी खतरनाक इमारते हैं जिनमें लाखों लोग जान हथेली पर रखकर रह रहे हैं। कई को प्रशासन के आदेश के बावजूद खाली नहीं किया गया।

Next Stories
1 कभी रोते हैं तो कभी सड़क पर लेट जाते हैं, अजब-गजब हरकतों और अनोखे वादों के साथ फिर चुनावी मैदान में उतरे नीटू शटरावालां
2 निर्दलीय सांसद की रेलवे से मांगः लेडिज कोच पर्याप्त नहीं, महिलाएं के लिए स्पेशल ट्रेन चलाए सरकार
3 75 साल की उम्र में बनी मां, कोटा की महिला ने IVF से प्री-मैच्योर बच्ची को दिया जन्म
यह पढ़ा क्या?
X