ताज़ा खबर
 

बंगालः Kolkata University में राज्यपाल का जबरदस्त विरोध, लगे ‘गो बैक’ के नारे; बोले- जो हुआ उसे पूरी तरह हिल गया हूं…ये काला दौर है

यह काला समय है। धनखड़ को मंगलवार को छात्रों के एक वर्ग द्वारा विश्वविद्यालय के वार्षिक दीक्षांत समारोह में शामिल होने से रोका गया था, जिसके बाद वह परिसर छोड़ कर चले गए थे। हाथों में ह्यनो सीएए और नो एनआरसी के पोस्टर लिये छात्रों ने उन्हें काले झंडे दिखाए और वापस जाओ के नारे लगाए।

Author  कोलकाता | Updated: January 30, 2020 12:07 AM
पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने बुधवार को कहा कि कलकत्ता विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह स्थल से भीड़ द्वारा उन्हें जाने के लिये बाध्य किये जाने से वह पूरी तरह से हिल गए हैं लेकिन राज्य के विश्वविद्यालयों के संवैधानिक प्रमुख और कुलाधिपति होने के नाते उन्हें उनके कर्तव्य के निर्वहन से कोई नहीं रोक सकता। इसे राज्य और विश्वविद्यालय दोनों के लिये ह्यह्यकाला दिन करार देते हुए धनखड़ ने कार्यक्रम स्थल पर सुरक्षा इंतजाम को लेकर तृणमूल कांग्रेस सरकार पर भी निशाना साधा।

सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस ने हालांकि धनखड़ के खिलाफ मंगलवार को प्रदर्शन करने वाले छात्रों का पक्ष लेते हुए कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने भी अपने छात्र जीवन में ब्रिटिश प्रोफेसर के खिलाफ प्रदर्शन का नेतृत्व किया था। राज्यपाल ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, मैं बहुत पीड़ा में हूं। (मंगलवार को दीक्षांत समारोह में) जो हुआ उससे मैं पूरी तरह हिल गया हूं… ।

यह काला समय है। धनखड़ को मंगलवार को छात्रों के एक वर्ग द्वारा विश्वविद्यालय के वार्षिक दीक्षांत समारोह में शामिल होने से रोका गया था, जिसके बाद वह परिसर छोड़ कर चले गए थे। हाथों में ह्यनो सीएए और नो एनआरसी के पोस्टर लिये छात्रों ने उन्हें काले झंडे दिखाए और वापस जाओ के नारे लगाए।
उन्होंने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, जो चीजें कल हुईं, वो अचानक से नहीं हुई।

कुलाधिपति को विधिवत आमंत्रित किए जाने के बावजूद बेकाबू भीड़ द्वारा आयोजन स्थल से जाने के लिए मजबूर किया गया। तृणमूल कांग्रेस के महासचिव पार्थ चटर्जी ने राज्यपाल पर पलटवार करते हुए कहा कि उन्होंने एक टकराव वाला रुख अपना लिया हैं और राज्य सरकार के खिलाफ लगातार टिप्पणी कर संवैधानिक पद की छवि धूमिल कर रहे हैं। छात्रों के प्रदर्शन पर धनखड़ की नाराजगी को लेकर चटर्जी ने कहा, वह छात्रों के बारे में क्या सोचते हैं? वे प्रदर्शन नहीं कर सकते?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X