ताज़ा खबर
 

Yamuna Floods: हथिनीकुंड से एक ही दिन छूटा 8 लाख क्यूसेक पानी, मथुरा के 175 गांवों पर बाढ़ का खतरा, शुरू हुईं तैयारियां

पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही बरसात के बाद सोमवार (19 अगस्त) को हथिनीकुंड बैराज से 8.28 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया, इसके चलते यमुना किनारे बसे कम से कम 67 गांव इसकी चपेट में आ सकते हैं।

Author मथुरा | Published on: August 20, 2019 12:55 PM
पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही बरसात के बाद सोमवार (19 अगस्त) को हथिनीकुंड बैराज से 8.28 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया, इसके चलते यमुना किनारे बसे कम से कम 67 गांव इसकी चपेट में आ सकते हैं।(प्रतिकात्मक तस्वीर) pic.. credit- indian express

हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से एक ही दिन में आठ लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने के चलते दिल्ली के बाद अब मथुरा-वृंदावन में खतरा बढ़ गया है। उफान पर बह रही यमुना नदी से बाढ़ आने का खतरा पैदा हो गया, जिसके चलते जिले के 175 गांव खतरे की जद में आ गए हैं। जिला प्रशासन ने आसन्न संकट से निपटने के लिए सभी ऐहतियाती इंतजाम करने शुरू कर दिए हैं।

गौरतलब है कि पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही बरसात के बाद सोमवार (19 अगस्त) को हथिनीकुंड बैराज से 8.28 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया, इसके चलते यमुना किनारे बसे कम से कम 67 गांव इसकी चपेट में आ सकते हैं। इनके बाद भी कम से कम 100 से अधिक गांव ऐसे हैं जहां पानी तबाही मचा सकता है।

यूं शुरू हुई राहत कार्यों की तैयारियांः जिला प्रशासन ने बाढ़ की आशंका वाले सभी 175 गांवों में बचाव और राहत कार्यों की तैयारियां पहले से ही शुरु कर दी हैं। इनमें से 67 गांवों के लोगों को यमुना का जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंचने से पहले ही अपने मवेशी और कीमती सामान लेकर ऊंचाई वाले स्थानों पर जाने की सलाह दी गई है।

इन गांवों को है खतराः जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र ने मीडिया से बातचीत में बताया, ‘यमुना किनारे बसे मथुरा के सभी 67 गांवों में मुनादी पिटवाने का काम शुरू करा दिया है। लोगों को गांव छोड़कर सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए तैयार रहने के लिए कहा जा रहा है। इनमें मांट और महावन तहसील के 21-21, सदर तहसील के 20 और छाता के पांच गांव शामिल हैं। जबकि गोवर्धन तहसील इस संकट से दूर है।’

National Hindi News, 20 August 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

पुलिस को भी किया सतर्कः आपदा एवं राहत कार्यों के प्रभारी अधिकारी, अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) ब्रजेश कुमार ने बताया कि पशुपालन अधिकारी और मुख्य चिकित्साधिकारी को अभी से सभी प्रकार की तैयारियां करने के निर्देश दिए गए हैं। तहसील कर्मचारी और क्षेत्रीय पुलिस बल लोगों को सतर्क करने में जुट गए हैं। यमुना किनारे की सभी 31 बाढ़ चौकियों को भी सक्रिय कर दिया गया है। यहां तैनात कर्मचारी यमुना पर नजर रखे हुए हैं।’

Delhi Yamuna River Flood Alert Live Updates: दिल्ली में बाढ़ का खतरा, ताजा जानकारी के लिए क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 UP Police को वीकली ऑफः कानपुर में 700 सिपाही-दरोगा छुट्टी पर, लेकिन इमरजेंसी कॉलिंग पर 15 मिनट में नहीं पहुंचे तो होगा एक्शन
2 Delhi Yamuna River Flood Alert Updates: हथिनीकुंड से छूटे पानी ने बढ़ाई मुसीबत, दिल्ली में निगम बोध घाट, किसान कॉलोनी समेत कई इलाके डूबे
3 पेड़ के नीचे खाना पका रहे लोगों पर टूट पड़ीं मधुमक्खियां, बुजुर्ग की मौत, 5 महिलाओं समेत 13 घायल