11 साल की बच्ची ने लिखा पीएम मोदी को खत, मांगा अपने माता-पिता के लिए न्याय - cuttack news, 11 year old girl write letter to pm narendra modi for justice for her parents - Jansatta
ताज़ा खबर
 

11 साल की बच्ची ने लिखा पीएम मोदी को खत, मांगा अपने माता-पिता के लिए न्याय

उग्रसेन का परिवार पिछले 12 सालों से इस गांव में एक किराए के मकान पर रह रहा है, जिसपर ग्रामीण जबरदस्ती कब्जा करना चाहते हैं।

इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

ओडिशा में 11 साल की एक लड़की ने अपने परिवार की सुरक्षा और न्याय के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गुहार लगाई है। यह मामला कटक के पोखारी गांव का है। प्राप्त जानकारी के अनुसार एक जमीन विवाद पर कंगारु कोर्ट में सुनवाई के बाद गांव के लोगों ने लड़की के परिवार को गांव से बाहर करने का फैसला किया। इसके खिलाफ उग्रसेन मोहराना की बेटी सुभाषश्री ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर मदद मांगी है। सुभाषश्री ने मोदी से आग्रह किया है कि वे इस मामले में दखल दें ताकि सुभाषश्री और उसके परिवार को न्याय मिल सके।  इस मामले पर सुभाषश्री का कहना है कि कोर्ट ने हमारे विरुध फैसला सुनाया जिसके बाद ग्रामीणों ने उसके पिता के साथ मारपीट की।

सुभाषश्री ने बताया कि इसके बाद ग्रामीणों ने उसके परिवार को गांव छोड़ने पर मजबूर कर दिया। लड़की ने ग्रामीणों पर आरोप लगाया है कि वे उनकी जमीन हथियाना चाहते हैं जिसके कारण उनके साथ ऐसा व्यवहार किया जा रहा है। इसके बाद सुभाषश्री और उसके परिवार ने डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस और अन्य उच्च अधिकारियों से बातचीत की। इसके बाद सुभाषशी के परिवार ने कंगारु कोर्ट के फैसले और ग्रामीणों के खिलाफ नियाली पुलिस थाने में जाकर न्याय की मांग की लेकिन पुलिस अधिकारियों ने न तो कोई केस दर्ज किया और न ही कोई कदम उठाया।

उग्रसेन का परिवार पिछले 12 सालों से इस गांव में एक किराए के मकान पर रह रहा है, जिसपर ग्रामीण जबरदस्ती कब्जा करना चाहते हैं। उग्रसेन का आरोप है कि गांव का एक व्यक्ति उनके घर पर कब्जा कर वहां पर निर्माण कार्य शुरु करना चाहता है। उग्रसेन के परिवार ने इसका विरोध किया तो उन्होंने हमें गांव से बाहर फेंक दिया। अब उसका परिवार किराए के मकान में रहने पर मजबूर है। इसके कारण ही सुभाषश्री चाहती है कि पीएम उसकी मदद कर उन्हें उनका घर वापस दिलवा दें।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App