ताज़ा खबर
 

मेडिकल घोटाला: पूर्व जज की तलाश में आधी रात सिटिंग जज के घर पहुंच गई सीबीआई टीम

सीबीआई ने एक बयान जारी कर कहा कि जैसे ही उन्हें पता चला है कि ये घर रिटायर्ड जस्टिस आई एम कुद्दुसी का नहीं है वे तुरंत वहां से चले गये और इसकी सूचना पुलिस को भी दी।

Author Updated: September 21, 2017 11:55 AM
सीबीआई (file photo)

दीप्तिमान तिवारी, अनंतकृष्णन जी।

बुधवार को सीबीआई टीम ओडिशा में तब विवादों में आ गई, जब मेडिकल घोटाले में एक रिटायर्ड जज की तलाश में ये टीम आधी रात को एक सिटिंग जज के घर पहुंच गई। और जज से बात करने की मांग करने लगी। दरअसल सीबीआई टीम ने मेडिकल घोटाले के मामले में रिटायर्ड जज मसरूर कुद्दुसी और पांच अन्य आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की और आठ ठिकानों पर छापे मारे। इसी दौरान सीबीआई की टीम मंगलवार आधी रात को कटक में ओडिशा हाई कोर्ट के जज सी आर दास के घर धमक गई। इस मामले में ओडिशा हाई कोर्ट के वकीलों ने हंगामा किया और सीबीआई के खिलाफ कार्रवाई की मांग की । ओडिशा पुलिस ने सिटिंग जज के घर में बिना परमिशन घुसने का केस दर्ज किया है। सीबीआई ने अपनी सफाई में कहा है कि ये गलत पहचान का मामला है। सीबीआई के मुताबिक रिटायर्ड जज वहीं रहते थे जहां इस वक्त सिटिंग जज रह रहे हैं। इस वजह से ये गलती हुई है।

ओडिशा हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक कुमार परिजा ने कहा है कि रात 1.30 बजे सीबीआई के कुछ लोग जज के निवास पर चले गये और उनसे मिलने की मांग करने लगे। हालांकि सिक्युरिटी स्टाफ ने उन्हें मिलने नहीं दिया। अशोक कुमार परिजा ने कहा, ‘ये गंभीर लापरवाही है और इसकी निंदा की जानी चाहिए, मैंने टीवी रिपोर्ट में देखा कि सीबीआई इस घटना से इनकार कर रही है, और इसे पहचान में हुई भूल का मामला बता रही है। सीबीआई का कहना है कि वे एक रिटायर्ड जस्टिस आई एम कुद्दुसी के यहां छापा मारने गये थे, लेकिन क्या वे ऐसा करने से पहले क्रॉस चेक नहीं करते हैं क्या?’ बार एसोसिएशन ने कहा है कि वे इस मामले की जांच की मांग हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस से करेंगे। इधर सीबीआई ने एक बयान जारी कर कहा कि जैसे ही उन्हें पता चला है कि ये घर रिटायर्ड जस्टिस आई एम कुद्दुसी का नहीं है वे तुरंत वहां से चले गये और इसकी सूचना पुलिस को भी दी। सीबीआई ने कहा कि घर में अवैध रुप से घुसने के आरोप गलत हैं।

बता दें कि पूर्व जज कुद्दुसी के खिलाफ ये मामला यूपी में मौजूद एक निजी मेडिकल कॉलेज ‘प्रसाद इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज’ से जुड़ा है। इस मेडिकल कॉलेज में कमियों की वजह से सरकार ने दाखिले पर रोक लगा दी थी। हालांकि प्रसाद एजुकेशन ट्रस्ट ने सुप्रीम कोर्ट में इस मामले को चुनौती दी थी। सीबीआई का कहना है कि इस मामले में छापेमारी के दौरान दिल्ली स्थित ग्रेटर नोएडा में पूर्व जज कुद्दुसी के घर से एक करोड़ नब्बे लाख रुपये जब्त किये गये थे, जबकि एक बिचौलिये से भी एक करोड़ रुपये बरामद किये गये थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ओडिशा: भुवनेश्वर में फ्लाईओवर गिरा, एक शख्स की मौत, 11 लोग घायल
2 7th Pay Commission: लाखों लोगों के लिए खुशखबरी, इस राज्‍य ने लागू की सिफारिशें
3 इंसाफ के ल‍िए ज‍िद्दाेजहद, 40 क‍िमी तक कंधे पर लाद कर मां-बाप को पहुंचाया कोर्ट
जस्‍ट नाउ
X