ताज़ा खबर
 

बीजेडी सांसद बैजंत पांडा पर अपनी ही पार्टी के कार्यकर्ताओं ने फेंके अंडे और पत्थर

इस घटना के तुरंत बाद, पांडा ने ट्वीट किया, उन्होंने लिखा पत्थर और अंडों को भूल जाओ, गोलियों का उपयोग करके भी मुझे डरा नहीं कर सकते।

बैजंत पांडा ने कड़ी सुरक्षा के बीच परियोजना का उद्घाटन किया। (Photo: Twitter)

उड़ीस में सत्तारूढ़ बीजू जनता दल की अंदरूनी लड़ाई की बात तब सामने आई जब पार्टी के ही सांसद बैजंत पांडा को ओडिशा के कटक जिले के माहांगा में पार्टी कार्यकर्ताओं से विरोध का सामना करना पड़ा। पांडा एक पानी की टंकी का उद्घाटन करने के लिए माहांगा के जातिपारिलो गांव गए थे। उनका विरोध करते हुए बीजेडी के ही कुछ कार्यकर्ताओं ने उनके ऊपर पत्थर और अंडे फेंके। उनके समर्थकों और मजदूरों के बीच झगड़ा हुआ था। इस घटना के तुरंत बाद, पांडा ने ट्वीट किया, उन्होंने लिखा पत्थर और अंडों को भूल जाओ, गोलियों का उपयोग करके भी मुझे डरा नहीं कर सकते। कड़ी सुरक्षा के बीच पांडा ने परियोजना का उद्घाटन किया। यह किन्द्रपरा में पहले से चल रही 52 पेयजल परियोजनाओं में से एक है, जो क्षेत्र में पानी की समस्या को कम करेगा।

परियोजना का उद्घाटन करते हुए पांडा ने कहा कि पानी की टंकी लोगों के लिए फायदेमंद होगी इससे लोगों को लाखों लीटर पानी मिलेगा। मुझे आश्चर्य है कि स्थानीय लोग इसके खिलाफ क्यों विरोध कर रहे हैं। पांडा ने सोमवार (29 मई) को पार्टी में कथित गुडावाद के बारे में ट्वीट किया था जब परियोजना के उद्घाटन के लिए लगाई की पट्टिका टूट गई थी। पांडा ने परियोजना के उद्घाटन के बाद कहा कि सभी स्थानीय नेताओं को कार्यक्रम के लिए आमंत्रित किया गया था और यहां तक ​​कि उनका नाम पट्टिका पर लिखा गया था जिसे कल तोड़ दिया गया।

HOT DEALS
  • Gionee X1 16GB Gold
    ₹ 8990 MRP ₹ 10349 -13%
    ₹1349 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 15220 MRP ₹ 17999 -15%
    ₹2000 Cashback

अपनी चिंताओं को व्यक्त करते हुए, सांसद ने कहा कि विरोध करने वाले लोगों को एक पेयजल परियोजना का विरोध करने के लिए जनता को जवाब देना होगा। उन्होंने बीजद पार्टी के मामलों में दखल देने के लिए नौकरशाहों को भी निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि जबसे पार्टी शुरू हुई है मैं तब से इस पार्टी में हूं। पहले 17 सालों तक पार्टी में गुंडागर्दी और एक तरह के आतंकवाद के खिलाफ एक नीति थी, लेकिन पिछले तीन सालों में कई चीजें बदल गई हैं। कुछ बाबूओं ने एसी रुम में बैठकर पार्टी की गतिविधियों को अनुशासनहीनता के लिए सबसे आगे बताना शुरू कर दिया है। ये अच्छे संकेत नहीं हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App