ताज़ा खबर
 

भद्रक हिंसा: 48 घंटों तक सोशल मीडिया ब्‍लॉक, कर्फ्यू अभी भी लागू, क्राइम ब्रांच ने शुरू की जांच

सोशल साइट पर हिंदू देवी-देवता राम और सीता को लेकर किए गए कथित आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर शुक्रवार को भद्रक में हिंसा भड़क उठी थी।

भद्रक में कर्फ्यू लगा हुआ है जो कि 10 अप्रैल की सुबह 7 बजे तक रहेगा। (PTI Photo)

ओडिशा के भद्रक में भड़की हिंसा के बाद सरकार ने 48 घंटों के लिए सोशल मीडिया पर प्रतिबंध लगा दिया है। यह प्रतिबंध रविवार (9 अप्रैल) की शाम 7 बजे से लागू हुआ जो कि भद्रक और आस-पास के इलाकों पर रहेगा। ओडिशा पुलिस की अपराध शाखा ने पिछले महीने भद्रक शहर में हुई सांप्रदायिक हिंसा की एक घटना की जांच शुरू कर दी है, जहां सोमवार सुबह तक कर्फ्यू लागू है। रविवार को प्रारंभ में सुबह आठ बजे से 11 बजे तक शहर में निषेधाज्ञा में ढील दी गई, और बाद में यह अवधि दोपहर 12 बजे तक बढ़ा दी गई, ताकि लोग आवश्यक उपभोक्ता वस्तुओं की खरीदारी कर सकें। पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि बाद में कर्फ्यू लगा दिया गया, जो सोमवार सुबह सात बजे तक रहेगा। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा है कि शहर में किसी अप्रिय घटना से बचने के लिए लगभग 35 प्लांटून पुलिस बल तैनात किए गए हैं, और त्वरित कार्रवाई बल (आरएएफ) की दो कंपनियां भद्रक भेजी गई हैं। पटनायक ने रविवार को नई दिल्ली में अंतर-राज्य परिषद स्थायी समिति की बैठक में हिस्सा लिया। उन्होंने कहा कि भद्रक के मुद्दे पर उन्होंने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से चर्चा की है और उन्होंने आश्वस्त किया है कि आरएएफ की दो कंपनियां राज्य को भेजी जाएंगी।

इस बीच अपराध शाखा ने हिंदू देवताओं को लेकर सोशल मीडिया पर की गई कथित आक्रामक टिप्पणी की जांच शुरू कर दी है। इसी टिप्पणी के कारण शहर में गुरुवार और शुक्रवार को अशांति पैदा हो गई थी। अपराध शाखा के विशेष महानिदेशक बी.के. शर्मा ने कहा, “सोशल मीडिया पर की गई कथित आक्रामक टिप्पणी और अफवाहों की अपराध शाखा ने जांच शुरू कर दी है। अपराध शाखा का साइबर सेल व्हाट्सएप डाटा की जांच कर रहा है। ग्रुप एडमिन्स से डाटा उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है।” उन्होंने यह भी कहा कि इसके पीछे के लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। पुलिस ने शनिवार को संघर्षो के सिलसिले में 35 लोगों को हिरासत में ले लिया था।

उप-राजस्‍व आयुक्‍त एबी ओटा ने कहा कि हालात में काफी सुधार आया है, मगर हालात सामान्‍य होने में कुछ दिन लगेंगे। उन्‍होंने कहा कि धीरे-धीरे कर्फ्यू में ढील दी जाएगी। सोशल साइट पर हिंदू देवी-देवता राम और सीता को लेकर किए गए कथित आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर शुक्रवार को भद्रक में हिंसा भड़क उठी थी। अस्थिरता को देखते हुए इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया।

क्या है मामला: बजरंग दल कार्यकर्ता अजीत कुमार पदिहारी ने फेसबुक पर भगवान राम और सीता की कोई फोटो पोस्ट की थी। कथित तौर से उस फोटो पर दूसरे समुदाय के लोगों ने अभद्र टिप्पणियां की। उसके बाद विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर उतकर हंगामा करना शुरू कर दिया। सड़क पर टायर जलाए गए, पुलिस ने उन लोगों को गिरफ्तार करने के लिए भी कहा गया। तीन लोगों पर कमेंट करने का आरोप है। भगत सेना राम नवमी समिति ने इसके लिए पुलिस थाने में शिकायत भी दर्ज करवाई है।

नोटबंदी के बाद बढ़े घरेलू हिंसा के मामले

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App