ताज़ा खबर
 

ओडिशा: बच्‍चे आराम से स्‍कूल जा सकें, इसलिए पहाड़ काटकर बना डाली 8 किलोमीटर लंबी सड़क

नायक ने कहा कि उसे इस अत्यंत कठिन काम को करने की प्ररेणा अपने बच्चों के कारण मिली, जो कि मुश्किलों से भरे पहाड़ के रास्ते से होते हुए शहर पढ़ने के लिए जाते थे।
जिला प्रशासन ने फैसला किया है कि नायक को सम्मानित करने के लिए मनरेगा स्कीम के तहत उन्हें सपोर्ट किया जाएगा।

बिहार के दशरथ मांझी की तरह ओडिशा के एक व्यक्ति ने साबित किया है कि वे भी माउंटेन मैन के खिताब के काबिल हैं। इस व्यक्ति का नाम जालंधर नायक है। 45 वर्षीय नायक पहाड़ काटकर अपने गांव गुमसाही को फुलभानी की सड़क से जोड़ा है जो कि कंधामल जिले में स्थित है। नायक के बच्चों को स्कूल जाने में परेशानी का सामना करना पड़ता था इसलिए उसने पहाड़ काटकर 8 किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण कर दिया। सड़क को बनाने में नायक को दो साल का समय लगा। एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार नायक ने कहा कि उसे इस अत्यंत कठिन काम को करने की प्ररेणा अपने बच्चों के कारण मिली, जो कि मुश्किलों से भरे पहाड़ के रास्ते से होते हुए शहर पढ़ने के लिए जाते थे।

नायक नहीं चाहते थे कि उसके बच्चे परेशानी झेलें, इसलिए उसने उनके स्कूल जाने वाले रास्ते में आने वाले पत्थर को काटकर रास्ता बना डाला। इस पर बात करते हुए नायक ने कहा “हमारे गांव में न तो कोई स्कूल है और न ही कोई आंगनवाड़ी है। शहर जाने के लिए हमें बहुत ही मुश्किल रास्ता पार करके जाना पड़ता था, इसलिए मैंने फैसला किया एक सड़क का निर्माण करुंगा। हमारे गांव में एक अस्पताल तक नहीं है। एक बार मुझे अपनी गर्भपत्नी को डोला में बिठाकर छह किलोमीटर दूर अस्पताल ले जाना पड़ा था।”

वहीं इस मामले पर ब्लॉक विकास अधिकारी एसके जेना से बात की गई तो उन्होंने कहा कि “जहां नायक रहता है वह इलाका बिलकुल भी रहने लायक नहीं है। हमने उसे शहर में आकर रहने के लिए आमंत्रित किया था लेकिन उसने इनकार कर दिया था। हमारा समर्थन हमेशा जालंधर नायक के साथ है।” इतना ही नहीं जिला प्रशासन ने फैसला किया है कि नायक को सम्मानित करने के लिए मनरेगा स्कीम के तहत उन्हें सपोर्ट किया जाएगा। जिला प्रशासन ने कहा कि पहाड़ तोड़कर सड़क का निर्माण करने की नायक के प्रयास और लगन से हम मंत्रमुग्ध है। नायक को पहाड़ तोड़कर सड़क का निर्माण करने में जितने भी दिन लगे हैं उसके लिए मनरेगा स्कीम के तहत उसे भुगतान किया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.