ताज़ा खबर
 

बिहार में 1 और कत्ल: चाकू से गोद कर BHIM Army के पूर्व जिलाध्यक्ष की हत्या!

उधर, समस्तीपुर में मेडिकल शॉप दुकानदार को गोली मार दी गई। स्थानीय रिपोर्ट्स के मुताबिक, बाइक सवार अपराधियों (तीन थे) ने उस पर यह हमला किया था।

Chirag Paswan, LJP, Biharबिहार के मुजफ्फरपुर में मृतक के परिजन को सांत्वना देते हुए मंगलवार को LJP चीफ चिराग पासवान। (फोटोः टि्वटर/@iChiragPaswan)

बिहार में बेलगाम अपराध की घटनाओं के बीच एक और कत्ल कर दिया गया। मंगलवार को मुजफ्फरपुर में BHIM Army के पूर्व जिलाध्यक्ष रुणजीत कुमार की हत्या हो गई। बताया गया कि पड़ोसी ने उनका विवाद हुआ था, जिसे बाद चाकू गोद-गोदकर बेरहमी से उनका मर्डर कर दिया गया। मामले में मुख्य आरोपी सहित 2 को गिरफ्तार कर लिया गया है।

इसी बीच, LJP चीफ चिराग पासवान मृतक के परिजन से मिलने पहुंचे और उन्होंने वहां पीड़ितों को सांत्वना दी। पासवान ने ट्वीट कर कहा, मुजफ्फरपुर भीम आर्मी के पूर्व जिला अध्यक्ष रोनोजीत उर्फ जॉन की हत्या हो जाने से दहशत है। नामज़द F.I.R हुई है लेकिन अपराधी अभी तक नहीं पकड़े गए। परिवार के लोग न्याय चाहते हैं। इस विषय पर एस॰पी॰मुजफ्फरपुर से बात हुई। उम्मीद करता हूं इस परिवार को न्याय मिलेगा।

उधर, समस्तीपुर में मेडिकल शॉप दुकानदार को गोली मार दी गई। स्थानीय रिपोर्ट्स के मुताबिक, बाइक सवार अपराधियों (तीन थे) ने उस पर यह हमला किया था। हालांकि, इनमें से दो अपराधी को ग्रामीणों ने धर दबोचा। मामला उजियारपुर थाना क्षेत्र के चंदौली का है। वहीं, सीवान में भी बाइकसवार दो अपराधियों ने एक शख्स को गोली मार दी। गर्दन में बुलेट लगने के बाद उसे आनन-फानन सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। खबर लिखे जाने तक चिकित्सकों ने उसे प्रथामिक उपचार के बाद पटना रेफर कर दिया था।

राज्यपाल से मिले तेजस्वी, कानून व्यवस्था पर सौंपा ज्ञापनः बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने सोमवार को राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात कर राज्य की कथित तौर पर बदहाल कानून व्यवस्था और बढ़ते अपराध को लेकर ज्ञापन सौंपा। बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी राजद के नेता तेजस्वी ने अपनी पार्टी के एक शिष्टमंडल के साथ सोमवार को राजभवन जाकर राज्यपाल से मुलाकात की और उन्हें एक ज्ञापन सौंपा।

बाद में, तेजस्वी ने पत्रकारों से कहा कि राज्यपाल ने उनके द्वारा ज्ञापन में उठाए गए मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए आवश्यक हस्तक्षेप करने का आश्वासन दिया है। उन्होंने दो पृष्ठों वाले अपने ज्ञापन में एनसीआरबी के आंकड़ों का हवाला देते हुए आरोप लगाया है कि 2005 से 2019 के बीच नीतीश कुमार के शासनकाल के दौरान संज्ञेय अपराध में दो गुना वृद्धि हुई है।

उन्होंने कहा कि एक निजी विमान कंपनी के स्थानीय प्रबंधक रूपेश सिंह की हत्या के पांच-छह दिन बीत जाने के बाद भी अपराधी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। तेजस्वी ने आरोप लगाया कि विगत कुछ दिनों में लूट, डकैती, रंगदारी, बलात्कार, हत्या की घटना में बेतहाशा वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारी मांग है कि रूपेश सिंह हत्याकांड की जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंपा जाए। अपराध की घटनाओं को रोकने में नाकाम एवं अपराधियों को संरक्षण देने वाली सरकार को अविलंब बर्खास्त करने की अनुशंसा राष्ट्रपति से की जाए।’’

Next Stories
1 दिल्ली दंगा : चार्जशीट पढ़ने को पर्याप्त वक्त नहीं दिया गया- कोर्ट से बोले आरोपी
2 ‘योगीराज में है अघोषित आपातकाल’, जेल से छूटे AAP के सोमनाथ भारती, कहा- 200 घंटे क्या, 200 दिन भी बंद रखोगे, तो भी जीतेगा केजरीवाल मॉडल!
3 बंगालः नहीं थम रहा संग्राम! शुभेंदु की सभा से पहले फिर बवाल, TMC कार्यकर्ताओं पर हमले का आरोप
ये पढ़ा क्या?
X